जागरण संवाददाता, जलपाईगुड़ी: देश के लिए सोना जीतने वाली स्वप्ना का परिवार आज भी न्यूनतम सरकारी सुविधाओं से वंचित है। इतने दिनों से परिवार वालों के पास पिछड़े जनजाति का प्रमाण पत्र नहीं था। कागजात बनाने के लिए सरकारी दफ्तरों में दर-दर भटकने के बाद भी कोई लाभ नहीं हुआ। परिवार वालों का आरोप है कि अब जाकर सरकारी प्रतिनिधि प्रमाण पत्र देने के लिए उसके घर पहुंचे हैं। स्वप्ना की मां बासना बर्मन का आरोप है कि कई बार जेरॉक्स पर जेरॉक्स जमा देने के बाद प्रमाण पत्र नहीं बना था। कोई सहायता के लिए आगे नहीं आया। सभी सटीक कागजात देने के बाद भी कोई न कोई कमी निकाल दी जाती थी। लेकिन अब सभी सुविधा व सहायता देने के लिए घर आ रहे हैं। सड़क बन रहा है। ये सब सिर्फ और सिर्फ बेटी स्वप्ना के चलते हो पा रहा है। केंद्रीय मंत्री, राज्य मंत्री सभी बधाई देने आ चुके हैं। लेकिन जलपाईगुड़ी के सांसद विजय चंद्र बर्मन व डीएम शिल्पा गौरसरिया अब तक नहीं आए हैं।

Posted By: Jagran