संवाद सूत्र, चामुर्ची: गेन्द्रापाड़ा चाय बागान के श्रमिकों ने रविवार सप्ताहिक छुट्टी में भी चाय बागान में काम करते हुए निस्वार्थ श्रमदान करते हुए एक मिसाल पेश की। इस समय वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते पूरा देश में लॉक डाउन होने के कारण विभिन्न संस्थाओं के लोग गरीब तबके एवं जरूरतमंद लोगों को खाद्य सामग्री वितरण कर रहे हैं। वही चाय बागान के बागान मैनेजमेंट द्वारा भी श्रमिकों को साबुन, मास्क, सैनिटाइजर प्रदान करते हुए फिजिकल डिस्टेंसिंग के जरिए श्रमिकों से कार्य लिया जा रहा है। प्रथम चरण की 21 दिन के लॉक डाउन की अवधि में चाय बागान बंद था। जिसके वजह से चाय उद्योग को काफी नुकसान उठाना पड़ा। इसके पश्चात सिर्फ 25प्रतिशत श्रमिकों को लेकर चाय बागानों में कार्य करने की अनुमति मिलने के बाद चाय बागान खोला गया। बागान मैनेजमेंट की इस आíथक मुसीबत की घड़ी में आज गेन्द्रापाड़ा चाय बागान के श्रमिकों ने निस्वार्थ रूप से बागान में कार्य करते हुए अपना श्रम दान दिया। बागान मैनेजमेंट की ओर से इन श्रमिकों को टिफिन की व्यवस्था भी की गई प्रबंधक एस के घई ने बताया चाय बागान के श्रमिकों यह सोच काफी स्वागत योग्य है। क्योंकि चाय बागान मालिक पक्ष के साथ-साथ श्रमिकों का भी है। दोनों के सही तालमेल से ही चाय बागान का माहौल एवं कार्य सुमधुर हो सकता है। उन्होंने इस कार्य के प्रति चाय बागान के श्रमिकों को धन्यवाद दिया।

कैप्शन : बागान के सामने खड़े चाय बागान के श्रमिक

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस