- मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में आदिवासियों का चौतरफा विकास, सरकार ने हिंदी को दिया महत्व : बिरसा तिरकी

- संवाद सूत्र, जयगांव: एक वक्त ऐसा भी था जब डुवार्स व आसपास में कोई भी काम आदिवासियों से पूछकर किया जाता था, लेकिन समुदाय के ही कुछ लोगों के चलते संगठन बिखर गया है। उक्त बातें बुधवार को जयगांव थाना के अंतर्गत तुरसा चाय बागान के हेबरोन स्कूल में आयोजित सभा के दौरान आदिवासी विकास परिषद (अविप) के अध्यक्ष बिरसा तिरकी ने कही है। उन्होंने अपने संबोधन में राज्य सरकार की जमकर तारीफ की। वहीं भाजपा व माकपा को आड़े हाथों लिया। वर्तमान राज्य सरकार आदिवासियों के हित व विकास के लिए चौतरफा विकास कर रही है। हिंदी माध्यम में माध्यमिक व उच्च माध्यमिक के स्कूल खोले जा रहे हैं। कॉलेज भी बने हैं। प्रश्न पत्र भी हिंदी में दिया जा रहा है। हाल के दिनों में उन्हें आदिवासी डेवलपमेंट का चेयरमैन बनाया गया है। अब भविष्य में आदिवासियों के विकास के लिए और तेज गति से काम किया जाएगा। दूसरी ओर आज के सभा के दौरान ही अविप के दलसिंगपाड़ा व जयगांव को मिलाकर आंचलिक कमेटी बनाई गई है। इसमें सुजीत महाली को अध्यक्ष, विनोद होरो को कार्यकारी अध्यक्ष, चंदन नगेसिया को सचिव, हेबोल उराव को सहसचिव, मदन उराव को कोषाध्यक्ष बनाया गया है। साथ ही तुरसा बागान में भी आंचलिक कमेटी बनाई गई है। इसमें जोरीयास तिग्गा को अध्यक्ष, विनोद उराव को सचिव बनाया गया है। इसके अलावा अन्य कमेटी कमेटी भी बनाई गई है। आज के कार्यक्रम में अविप के राज्य सचिव के साथ पीटीडब्ल्यूयू के चेयरमैन तेज कुमार टोप्पो, अविप के जिलाध्यक्ष बबलू लाकड़ा, ब्लॉक सचिव निर्मल लोहार समेत अन्य मौजूद थे।

Posted By: Jagran