जागरण संवाददाता, जलपाईगुड़ी: शहर के टेमस के रूप में परिचित करला नदी में प्रदूषण रोकने के विभाग की ओर से कोई उचित कदम नहीं उठाया जा रहा है। फलस्वरूप शहर के बीचों-बीच बहने वाली करना नदी में प्रदूषण दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। नदी के दूसरे किनारे दिनबाजार है। यहां लगने वाली मछली बाजार से प्रतिदिन काफी थर्मोकल का बक्सा नदी में फेंका जाता है। बार-बार शिकायत करने के बाद भी विभाग की ओर से कोई जरूरी कदम नहीं उठाया जा रहा है। करला नदी को साफ करने के लिए राज्य सरकार के मंत्रियों ने भी कई बार आश्वासन दिया है, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। उक्त मामले को लेकर दिनबाजार व्यवसायी समिति के सदस्यों ने कहा कि संगठन की ओर से प्रशासन को कई बार आवेदन दिया जा चुका है। लेकिन हालत जस की तस बनी हुई है। नगरपालिका अधिकारियों की ओर से कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है। लापरवाही करने वालों को चिन्हित करके कार्रवाई करने की मांग की गई है।

Posted By: Jagran