- पुलिस एक छात्र को हिरासत में लेकर कर रही पूछताछ

- जानलेवा गेम से दूर रहने के लिए स्कूलों में जागरूकता अभियान जागरण संवाददाता, जलपाईगुड़ी: जानलेवा गेम मोमो के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए जलपाईगुड़ी पुलिस ने यह मामला सीआइडी के साइबर सेल को सौंप दिया है। उक्त घटना को पुलिस हलके में नहीं ले रही है। छानबीन के दौरान कोतवाली थाने के साइबर सेल ने एक छात्र को हिरासत में लिया गया है। पूछताछ के दौरान उसने बताया कि दोस्तों से मजाक करने के लिए ही मैसेज फार‌र्व्ड किया था। लेकिन वह नंबर अमेरिका से क्रियेट किया गया था।

साइबर विशेषज्ञों की माने तो ब्लू व्हेल गेम की तरह ही मोमो गेम है। जो विदेशी की मिट्टी से ही शुरू हुआ है। अब तक भारत में दो लोगों की मौत मोमो गेम से हो चुकी है। इस गिरोह का जाल दूर-दूर तक फैला हुआ है। जलपाईगुड़ी पुलिस अधीक्षक अमिताभ माइति ने कहा कि जानलेवा मोमो गेम को लेकर जागरूकता अभियान शुरू किया गया है। इस गिरोह को पकड़ने के लिए ही सीआइडी के साइबर सेल को कार्यभार सौंपा गया है।

ज्ञातव्य है कि गत मंगलवार को मोबाइल में जानलेवा मोमो गेम खेलने का मैसेज आने के बाद पीडी कॉलेज की छात्रा व पांडा पाड़ा बड़तला की रहने वाली कविता राय ने कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। सोमवार की रात को छात्रा कविता राय के मोबाइल के ह्वाट्सएप पर जानलेवा मोमो गैम खेलने का मैसेज अनजान नंबर से आया। इसके तुरंत बाद ही कविता ने अपने बड़े भाई को मैसेज के बारे में जानकारी दी। भाई के परामर्श पर कविता ने गेम का मैसेज देने वाले अंजान नंबर को ब्लॉक कर दिया। आजकल सोशल मीडिया में मोमो गेम छाया हुआ है। इस गेम को जालनेवा माना जा रहा है। गेम के चलते एक किशोरी की मौत हो चुकी है। मौत ही गेम का अंतिम चरण माना जा रहा है। इसे लेकर फ्रांस, अमेरिका समेत कई देशों में अलर्ट जारी किया जा चुका है।

Posted By: Jagran