संवाद सूत्र, वीरपाड़ा: हाथियों के उत्पात में धान का खेत, सुपारी बागान, केले का बागान समेत कई फसलों को नुकसान हुआ है। हाथी के दहशत के कारण लोग रात को चैन की नींद सो भी नहीं पाए। यह घटना वीरपाड़ा थाना इलाके के न्यू लाइन, देवीशिमूल, बड़हवदा समेत विभिन्न इलाकों में घटी है। जानकारी के अनुसार शुक्रवार रात को अचानक इन इलाकों में हाथियों ने घुसकर कई बीघा जमीन पर लगे धान की फसल को नष्ट कर दिया। इसके बाद सुपारी के बागान और केले के पेड़ को भी नुकसान पहुंचाया गया। ग्राम पंचायत सदस्य लक्ष्मण लिंबू ने कहा कि हाथी के उत्पात इन इलाकों में रूटीन घटना है। ग्रामीण इलाके कृषि प्रधान होने के कारण यहां विभिन्न प्रकार की फसलें उगाई जाती है। इधर, भोजन की तलाश में हाथी इन्हीं इलाकों में घुसकर फसल नष्ट कर देते हैं। मुख्य तौर पर धान, मक्का, केला और सुपारी की फसल को नष्ट किया जाता है। हाथियों का झुंड लगातार इन इलाकों में चला आ रहा है। इस कारण लोगों में भी काफी दहशत का माहौल है। उनलोगों को फसल बचाना भी मुश्किल हो जा रहा है। असल बचाना भी मुश्किल हो रहा है। न्यू लाइन इलाके के निवासी जेठा तमांग, फुलमाया तमाग ने कहा कि हाथी के डर से वे लोग रात को सो भी नहीं पाते हैं। काफी कष्ट से अपना फसल लगाते हैं, लेकिन हाथी उसे नष्ट कर दे रहे हैं। वहीं वन विभाग जलगाव रेंज के रेंजर आशीष पाल ने कहा कि शुक्रवार रात को इलाके में हाथी की खबर मिलते ही वनकर्मी मौके पर पहुंच गए। अगर परिवार अपने नुकसान का विस्तार पूर्वक जानकारी देते हैं तो उन लोगों को सरकारी नियमानुसार मुआवजा देने की व्यवस्था की जाएगी।

Edited By: Jagran