कैचवर्ड-प्रकृति

-जलपाईगुड़ी जिला में बर्फबारी के कारण खेत-खलियान सहित कच्चे घर हुए क्षतिग्रस्त

-मैदानों में छाता लेकर कटोरी में बर्फ के टुकड़े उठाते दिखे बच्चे

-बारिश के बाद आसमान साफ, पर्यावरण स्वच्छ

-बर्फबारी से चाय बागान पर प्रभाव

-बर्फवारी से नुकसान हुआ है या नहीं, इसकी हम जांच कर रहें है : पौर प्रधान

जेएनएन,जलपाईगुड़ी/मालबाजार : कोरोना महामारी के बीच अचानक गुरुवार दोपहर के समय बर्फबारी ने किसी के लिए तबाही लाया तो किसी के चेहरे पर मुसकान बिखेरा। जिनके घर पक्के थें, वें बालकोनी में खड़े होकर मोबाइल से इसकी फोटो व वीडियों बना रहें थे। और जिनके घर कच्चे थे, वें रो-कराह रहें थें। उनकी फसले बर्वाद हो गयी। उनकी जमा-पूंजी इस बर्फबारी में बिखर गयी। बर्फबारी के साथ-साथ तूफान के कारण कई घर क्षतिग्रस्त हुए। मयनागुड़ी ब्लॉक में कच्चें घर इसके कारण काफी प्रभावित हुए। साथ चाय बागान में चाय की पत्तियां भी इससे प्रभावित हुई।

दूसरी ओर कोरोना के भय के बीच प्रकृति की गर्जन ने थोड़ी देर के लिए लोगों को राहत दी। शाम के समय रिमझिम बारिश के बीच ओलावृष्टि से हवा बदल गयी। कुछ लोगों ने इस बर्फबारी का भरपूर आनंद उठाया। कुछ घरों की खिड़कियों से इस मनोरम दृश्य को देखकर रोमांचित हो रहें थे, तो कुछ अपने आप को रोक नहीं पाए और मैदान में जाकर छाता थामे कटोरी में बर्फ के टुकड़ें बटोर रहें थें। इस बीच जरूरी सामान के लिए बाहर निकलने वालों के लिए यह ओलावृष्टि पेरशानी का सबब भी बनी। दूसरी ओर लॉक डाउन के कारण चाय बागान की पहले की तरह देखभाल नहीं हो पा रही है। अचानक ओलावृष्टि से चाय के पौधों का नुकसान हुआ है।

माल नगरपालिका के पौर प्रधान सपन साहा ने बताया कि बर्फबारी के कारण किसी तरह की क्षति हुई है या नहीं, इसकी हम जांच कर रहें है। माल ब्लॉक के डामडिम इलाके में आज दोपहर जमकर बफबारी हुई।

कैप्शन : 1. मैदान में बर्फ के टुकड़े उठाते युवा 2. पौधों से बर्फ का टुकड़ा हटाता किसान

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस