संवाद सहयोगी, अंडाल/ जामुड़िया : अंडाल थाना के ईसीएल काजोड़ा क्षेत्र के परासकोल इलाके में तीन दिन पहले धंसान के कारण जमीन पर दरार पड़ी थी। लेकिन धीरे-धीरे दरार बढ़ती जा रही है। जिससे लोगों में चिता बनी हुई है। स्थानीय लोग अनुमान कर रहे है कि बारिश होने पर यहां की जमीन पूरी तरह से बैठ सकती है। वहीं स्थिति पर ईसीएल प्रबंधन द्वारा भी नजर रखी जा रही है एवं मुख्य सड़क के दोनों ओर बांस का बैरिकेडिग लगाकर सड़क पर आवागमन पूरी तरह से रोक दिया गया है। जिससे राहगीरों को काफी परेशानी हो रही है। लोगों ने ईसीएल प्रबंधन से आवागमन के लिए वैकल्पिक रास्ता बनाने की मांग की है। दूरदराज से आने वाले लोगों को सड़क बंद होने से परेशानी हो रही है। हालांकि धंसान प्रभावित इलाके में पुलिस के सिविक वोलेंटियर को तैनात किया गया है। धंसान से पद्मावती मंदिर भी चपेट में आया था, वहां भी किसी को जाने नहीं दिया जा रहा है। सीमेंट के खंभा एवं कांटा तार के सहारे प्रभावित क्षेत्र को घेरने का काम किया जा रहा है।

धंसान में तकरीबन 60 मकान क्षतिग्रस्त हुए है। प्रभावित लोगों को ईसीएल के खाली पड़े क्वार्टरों में रहने की जगह दी गई है। पर्याप्त क्वार्टर ना होने के कारण एक क्वार्टर में दो-तीन परिवार एक साथ रह रहे है। अभी भी कई लोग ऐसे है जिन्हें रहने का स्थान नहीं मिल पाया है, ऐसे तमाम लोगों को ईसीएल के काजोड़ा एरिया ऑफीसर्स क्लब में रहने का इंतजाम किया गया है, जहां खाने की व्यवस्था भी की गई है। ग्रामीणों की समस्या को देखते हुए ईसीएल की ओर से ऑफिसर्स क्लब हॉल में ही बांस का टेंट बनाया जा रहा है।

Edited By: Jagran