लिंगी में टेंडो ल्हो रुम फात कार्यक्रम आयोजित

-------------

संसू.गंगटोक: सिक्किम के आदिम जनजाति लेप्चा समुदाय खुद को प्रकृति पूजक के रूप में मानते है। लेप्चा जाति साल में दो बार परंपरा अनुरूप प्रकृति पूजा के साथ ही विश्व शाति के लिए पूजा करते है। इसी संदर्भ में दक्षिण सिक्किम अंतर्गत लिंगी स्थित नाली परताम में 'टेंडोंग ल्हो रुम-फात' पर्व राज्य स्तरीय रूप में पालन किया गया। टेंडोंग की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में बताया जाता है कि बहुत समय पहले सिक्किम में जल प्रलय हुआ था। इस समय यहा के लेप्चा समुदाय दक्षिण सिक्किम के टेंडोंग पहाड़ पर चढ़ गए। टेंडोंग पहाड़ के कारण खुद को आज तक जीवित मानने वाले लेप्चा समुदाय प्रत्येक साल यह पूजा आयोजन करते है। पर्व में इस समुदाय के लोग टेंडोंग पर्वत को खाद्यान्न, जंगल में पाए जाने वाले फल और कंदमूल का भोग लगाकर विश्व शाति के लिए प्रार्थना और उनकी सुरक्षा के लिए धन्यवाद देते है। लेप्चा समुदाय इस पर्व को एकता का पर्व भी मानते है।

मंत्री कुंगा नीमा लेप्चा ने कहा कि मुख्यमंत्री गोले इस पिछड़ा क्षेत्र विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि मैं लैंड रेवेन्यू विभाग का भी प्रभारी मंत्री हूं, यहा के प्राकृतिक आपदाओं का समाधान करने के लिए पहल करना आवश्यक है। इस पर पहल किया जाएगा। मंत्री लेप्चा ने युवाओं को संस्कृति परंपरा संरक्षण के लिए पहल करे की सुझाव दी। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी जाति अपनी संस्कृति, परंपराओं से विमुख हो रहे है। ऐसी स्थिति में सरकार सभी जाति के संस्कार और परंपरा को खुला रुप से पालन करने के लिए सहयोग कर रही है।

आयोजन समिति के अध्यक्ष व मंत्री साडुप लेप्चा ने कहा कि यह लेप्चा बहुल क्षेत्र है। इसके साथ ही उत्तर सिक्किम का जंगू भी यहा से नजदीक है। इसी कारण इसे यहा मनाया गया है। उन्होंने बताया कि यह क्षेत्र हारा हुआ क्षेत्र है। अगर यहा कार्यक्रम आयोजित किया गया तो मुख्यमंत्री यहा के लोगों से मिलकर उनकी समस्याओं को समझेंगे। लेकिन नीति आयोग की बैठक के कारण मुख्यमंत्री नहीं आ सके। उन्होंने लोगों से अपील की है कि मुख्यमंत्री की अनुपस्थिति को नकारात्मक न लें। उल्लेख किया जाता है कि तुमिन लिंगी विधानसभा समष्टि में भाजपा विधायक है। इसी कारण यहा सत्तारूढ पार्टी ने एक प्रभारी भी नियुक्त किया है।

कार्यक्रम में शिक्षा विभाग के मंत्री कुंगा नीमा लेप्चा मुख्य अतिथि, सिक्किम विधानसभा अध्यक्ष एलबी दास, मंत्री, विधायक लगायत सिक्किम के 21 जाति समुदाय के प्रतिनिधि, नेपाल, भूटान, दार्जीलिंग और कालेबुंग से लेप्चा समुदाय के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

---------------

चित्र परिचय:: फोटो 1- लेप्चा जाति का पूजा स्थल

फोटो 2- पूजा स्थल पर पूजा करते हुए लेप्चा गुरु और आशीर्वाद लेते हुए भ1त

Edited By: Jagran