फोटो : संजय जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी :

नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजेंस (एनआरसी) के विरुद्ध तृणमूल कांग्रेस की चंपासारी अंचल कमेटी की ओर से रविवार को मिलन मोड़ से देवीडांगा बाजार तक प्रतिवाद रैली निकाली गई। इसमें शामिल तृणमूल कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं एवं समर्थकों ने बैनर, पोस्टर व प्ले कार्ड प्रदिर्शत करते हुए एनआरसी एवं इसके लिए केंद्र की भाजपा सरकार को जम कर कोसा। इसके साथ ही आम लोगों से एनआरसी के विरुद्ध एकजुट हो कर आगे आने व जोरदार आंदोलन करने की अपील की।

इस उपलक्ष्य में देवीडांगा में प्रतिवाद सभा भी की गई। इसमें तृणमूल कांग्रेस नेताओं ने कहा कि असम में एनआरसी ने केंद्र की सत्तारूढ़ भाजपा की पोल खोल कर रख दी है। कहां तो दावा किया जा रहा था कि करोड़ों घुसपैठिए हैं और कहां एनआरसी की फाइनल सूची से बाहर रहने वालों की संख्या मात्र 19 लाख ही निकली। वह भी एनआरसी की गलत प्रक्रिया एवं इससे जुड़े अधिकारियों-कर्मचारियों के मनमाने रवैये के चलते ही। वरना, देश के पूर्व राष्ट्रपति का परिवार, सेना के जवानों का परिवार, वीर सपूत गोरखा समुदाय क्या एनआरसी सूची से बाहर रह सकता है? किसी को कागजात के नाम पर तो किसी को स्पेलिंग में गलती के नाम पर ही बाहर कर दिया गया। इसकी सही-सही प्रक्रिया अपनाई जाए तो कोई भी सूची से बाहर नहीं जाएगा। इससे यह सिद्ध हो गया कि केंद्र की भाजपा सरकार ने तानाशाही रवैया अपनाते हुए एनआरसी के नाम पर अरबों रुपये खर्च कर दिए मगर लाभ कुछ नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि हमारी नेत्री ममता बनर्जी ने स्पष्ट कर दिया है कि असम में एनआरसी की सूची से बाहर हुए 19 लाख लोगों विशेष कर बांग्लाभाषी समुदाय के साथ पश्चिम बंगाल खड़ा है। पश्चिम बंगाल में एनआरसी किसी भी कीमत पर लागू नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने आम लोगों से भी एनआरसी के विरुद्ध मुखर होने व एकजुट हो कर आगे आ कर जोरदार आंदोलन करने की अपील की। इस दिन रैली व सभा में दार्जिलिंग जिला तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष रंजन सरकार, मदन भट्टाचार्य व सैकड़ों समर्थक सम्मिलित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस