मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

सिलीगुड़ी, जागरण संवाददाता। पिछले एक साल से फरार चल रहे गोरखा जन मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष विमल गुरुंग ने सोमवार की सुबह विज्ञप्ति जारी करते हुए देश भर के गोरखाओं को 25 अक्टूबर को शपथ दिवस मनाने का आह्वान किया है।

इस दौरान सभी गोरखा मंदिर मस्जिद,गिरजाघर ,चौक चौराहों और अपने घर में दिया और मोमबत्ती जलाकर बरुन भुजेल समेत आदोलन में मरे गए लोगों की आत्मा की शाति की कामना करने को कहा है। गुरूंग ने कहा है कि बरुन भुजेल को जेल में बंगाल पुलिस ने साजिश के तहत मार डाला। गणतात्रिक आदोलन को पुलिस के बल पर दबाने के लिए 9 आदोलनकारियो को मार दिया गया था।

बंगाल सरकार के इशारे पर पुलिस ने जो अमानवीय कार्य किया है उसे देखते हुए पहले शपथ दिवस को प्रत्येक गोरखा इसका पालन करे। इसके माध्यम से गोरखा अपने अस्तित्व की लड़ाई और वर्षो की माग गोरखालैण्ड की माग को साकार करे।

विमल गुरूंग के शपथ दिवस के आह्वान को लेकर हिल्स और समतल में पुलिस प्रशासन के कान खड़े हो गए हैं। सबकी नजर विनय तमाग गुट पर लगी है कि वह इसका पालन करते हैं या नहीं। ज्ञातव्य है कि एक वर्ष पूर्व गोरखाओं को बाग्ला भाषा पढ़ाने की माग का विरोध करते हुए विमल गुरुंग की अगुवाई में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत पूरे कैबनेट के सामने दार्जिलिंग में घेराव किया गया था। 107 दिनों तक लगातार बंद के दौरान हिंसा और हत्याओं का दौर चला।

विमल गुरुंग समेत उनके समर्थकों पर हत्या,राष्ट्रदोह, आगजनी, लूटपाट आर्म्स एक्ट के मामले दर्ज हैं। सैकड़ों समर्थकों और नेताओं को महीनों जेल की हवा खानी पड़ी थी। आज भी मामले में कोर्ट में हाजरी दी जा रही है। विमल गुरुंग के सहयोगी विनय तमाग ममता का हाथ थाम जीटीए चीफ बन गए हैं। हिल्स में वे खुद को गोरखा जनमुक्ति मोर्चा का प्रमुख मानते हुए संगठन का कार्य देख रहे हैं। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप