सिलीगुड़ी, जागरण संवाददाता। सीमावर्ती क्षेत्र में लाख चौकसी हो परंतु सीमा से तस्करी का खेल लगातार जारी है। इसकी संवेदना पर किसी सुरक्षा एजेंसी ने गंभीरता से विचार नहीं किया है। यह तस्करों व राष्ट्रद्रोहियों के लिए स्वर्ग का मार्ग बनता जा रहा है।

भारत-नेपाल की सबसे संवेदनशील सीमा और बांग्लादेश व भूटान के रास्ते तस्करी के खेल को खुलेआम अंजाम दिया जा रहा है। जिसकी वजह से यह सीमा हमेशा सुर्खियों में बना रहता है। शहर से मात्र 23 किलोमीटर दूर पानीटंकी बोर्डर को संवेदनशील सीमा का दर्जा दिया गया है, लेकिन यह सीमा कितना संवेदनशील है इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि यहां एक दिन भी नहीं है जब इस मार्ग से तस्करी नहीं होती हो।

सीमा पर 24 घटे सुरक्षा एजेंसिया तैनात हैं फिर भी सीमा तस्करी के मामले में इंडो-नेपाल के सभी सीमाओं को पीछे छोड़ दिया है। सीमा से रोजाना सैकड़ों की संख्या में देशी एवं विदेशी पर्यटकों के अलावा अन्य कार्यो से भी लोगों का आना-जाना लगा रहता है। ऐसे में तस्कर भी सीमा पर अपनी समा बाधे रहते है। तस्करों के लिए सीमा पर एक कोड बर्ड तैयार किया गया है जिसे कहने पर उसे सुरक्षा एजेंसियों के जवान नहीं पकड़ते। इन दिनों बिहार की लगी भारत नेपाल सीमा का सघन दौड़ा एसएसबी के महानिदेशक रजनीकांत मिश्रा कर रहे है।

उसके बाद भी उसी से सटे बंगाल-बिहार नेपाल सीमावर्ती सीमा पर कई प्रकार की तस्करी धड़ल्ले से हो रहे है। इन वस्तुओं की हो रही तस्करी इंडो-नेपाल सीमा से रोजाना चाइनीज सेब, नशीली दवाएं, खाद, चीनी, चावल, शराब आदि सामानों की बड़ी मात्रा में तस्करी की जाती है। नेपाल, भूटान और बांग्लादेश के माध्यम से सोना समेत मादक पदार्थ की तस्करी हो रही है। इसका खुलासा कई बार होने वाले बरामदगी से होता है। ऐसा नहीं है कि इस खेल की भनक आबकारी विभाग के अधिकारी एवं सुरक्षा एजेंसियों को नहीं है, वह सब कुछ जानकर भी चुप्पी साधे हुए हैं।

आला अधिकारियों द्वारा अधिक दबाव पड़ने पर सीमा पर तैनात एजेंसियों द्वारा किसी तस्कर के थोड़े से सामान को पकड़ कर उसकी बरामदगी दिखा वाहवाही लूट ली जाती है। जिससे बड़े तस्करों की चादी हो जाती है। समय-समय पर हो रही बरामदगी पुष्टि के लिए काफी है कि सीमा से बड़े पैमाने पर तस्करी को अंजाम दिया जाता है। तस्कर की आड़ में कहीं कोई घुसपैठ न भारतीय सीमा में प्रवेश कर नागरिकों के लिए आफत बन जाए। एसपी दार्जिलिंग अखिलेश चतुर्वेदी का कहना है कि सीमा पर पुलिस प्रशासन लगातार समाज विरोधी तत्वों पर नजर बनाए हुए है। हमेशा अन्य सुरक्षा एजेंसियों के साथ लगातार तालमेल कर कार्य किया जा रहा है। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप