जागरण संवाददाता, कोलकाता: चाय बागानों की अतिरिक्त जमीन पर पर्यटन केंद्र तैयार कर सरकार उत्तर बंगाल और दार्जिलिंग के पहाड़ी क्षेत्र में रोजगार का अवसर पैदा करेगी। गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में यह निर्णय लिया गया। वहीं बैठक के बाद राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि चाय बगानों की अधिक मात्रा में खाली जमीन पड़ी हुई है। उत्तर बंगाल में खाली पड़ी ऐसी जमीन पर पर्यटन केंद्र विकसित किया जाएगा, ताकि उत्तर बंगाल में अधिक से अधिक रोजगार के अवसर बन सके। इस तरह की खाली पड़ी जमीन पर अन्य निमार्ण कार्य भी किए जाने की योजना है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उत्तर बंगाल और पहाड़ के दौरे पर जाने पर वहां अधिक से अधिक रोजगार पैदा करने पर जोर देती रही हैं। इसके बावजूद लोकसभा चुनाव में उत्तर बंगाल में तृणमूल कांग्रेस का नतीजा संतोषजनक नहीं रहा। इसलिए सरकार उत्तर बंगाल में विकास कार्य पर समान रूप से जोर देना चाहती है, ताकि अगले विधानसभा चुनाव में इसका लाभ मिल सके। नवान्न सूत्रों के मुताबिक गुरुवार को कैबिनेट की बैठक में पहाड़ और उत्तर बंगाल के विकास का मुद्दा छाया रहा। चाय बागानों की आर्थिक स्थिति खराब होने के बाद सरकार उत्तर बंगाल में रोजगार का विकल्प तैयार करना चाहती है। 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस