-उत्तरकन्या बैठक में भाग लेने वालों की बढ़ी चिंता

-कल तक विभिन्न कार्यक्रमों में सक्रिय रहे थे काजल घोष

-पाटी के कई अन्य नेताओं की भी उड़ी नींद

-आनन -फानन में महकमा परिषद को किया बंद

-रंजन सरकार सहित कई नेता और अधिकारी होम क्वारंटाइन जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : तृणमूल कांग्रेस के नेता व महकमा परिषद में विरोधी दल नेता काजल घोष व एनजेपी तृणमूल कांग्रेस के ट्रेड यूनियन नेता प्रसेजीत राय के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद पार्टी नेताओं में खलबली मची हुई है। खौफ व दहशत का माहौल उत्पन्न हो गया। सिलिगुड़ी महकमा परिषद को आनन-फानन बंद करा दिया गया है।

अगले दो दिनों तक महकमा परिषद बंद रहेगा। इस दौरान महकमा परिषद का सैनिटाइजेशन करवाया जाएगा।

इधर, काजल घोष शहर के एक नìसग होम में भर्ती हुए हैं। जहा उनकी चिकित्सा चल रही है। उन्होंने कहा कि फिलहाल वह कुछ अस्वस्थ हैं। थोड़ी कमजोरी महसूस कर रहे हैं। उन्हें आशा है कि वह जल्द ही स्वस्थ हो उठेंगे और पूरी सक्रियता के साथ सार्वजनिक जीवन में लौटेंगे। बताया जाता है कि सर्दी, बुखार व बदन दर्द की समस्या की लेकर डॉक्टरों की सलाह पर काजल घोष ने कोविड-19 जाच हेतु तीन-चार दिन पहले नॉर्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनबीएमसीएच) की प्रयोगशाला में अपना सैंपल दिया था। जहा से, मंगलवार सुबह उन्हें फोन कर बताया गया कि उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उसके बाद से ही हड़कंप मच गया। काजल घोष व प्रसेजीत राय ने शनिवार को उत्तरकन्या में कोरोना को लेकर आयोजित बैठक में भाग लिया था। इसमें जिला तृणमूल अध्यक्ष समेत ज्यादातर दायित्व प्राप्त नेता शामिल हुए थे। इसके साथ ही तृणमूल कांग्रेस पार्टी कार्यालय में नगर निगम क्षेत्र के तीन टाउन अध्यक्ष, सभी प्रखंड के अध्यक्ष के साथ केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन को लेकर रणनीति पर मंथन हुआ था। इसमें सभी एक दूसरे के पास बैठे थे। यहां कई बार काजल घोष को छींक भी आयी थी। ऐसे उत्तरकन्या की बैठक में थर्मल चेकिंग भी की गयी थी। इसमें किसी प्रकार की बात सामने नहीं आयी थी। इतना ही नहीं एक दिन पूर्व ही केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन में सभी लोग शामिल भी हुए थे। प्रसेजीत राय लगातार एनजेपी क्षेत्र में इस दौरान लोगों से मिलते रहे हैं। मंगलवार को दिन के तीन बजे फोन कर उन्हें बताया गया कि वह कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए हैं। उसके तुरंत बाद उन्होंने खुद अपनी कार ली और खुद ही चलाते हुए सीधे एक नìसग होम जा कर भर्ती हो गए, जहा उनका इलाज चल रहा है। उन्होंने बताया कि फिलहाल वह कुछ स्वस्थ महसूस कर रहे हैं और थोड़ी कमजोरी भी महसूस हो रही है। किसी तरह का कोई खौफ व दहशत का माहौल उत्पन्न न हो इसीलिए एंबुलेंस वगैरह के चक्कर में न पड़कर उन्होंने खुद ही अपनी कार चलाते हुए नìसग होम में जा कर भर्ती हो जाना मुनासिब समझा। उन्होंने आशा व्यक्त की है कि वह जल्दी स्वस्थ हो उठेंगे और सार्वजनिक जीवन में लौटेंगे। गौरतलब है कि काजल घोष बीते तीन-चार दिनों से विभिन्न प्रशासनिक बैठकों और राजनीतिक कार्यक्रमों में बहुत ही ज्यादा सक्रिय थे। गत रविवार को बिधाननगर में उन्होंने एक रिसॉर्ट में कोरोना योद्धा सम्मान समारोह आयोजित किया था। उसमें 132 लोगों को उन्होंने कोरोना योद्धा के तौर पर सम्मानित किया था। उनमें पुलिस वाले, डॉक्टर, स्वास्थ्यकर्मी, आशा कर्मी व समाजसेवी आदि शामिल थे। इन सभी को कोरोना सतर्कता के तहत प्रशासन की ओर से फिलहाल होम क्वारंटाइन रहने को कहा गया है। दाíजलिंग के जिलाधिकारी एस. पोन्नमबलम ने कहा है कि सारे के सारे प्राइमरी कॉन्टैक्ट्स वाले लोगों को फिलहाल होम क्वारंटाइन रहने को कहा गया है। आगामी दिनों यदि उनमें से किसी को भी कुछ लक्षण नजर आते हैं तो उनकी भी कोविड-19 जाच करवाई जाएगी।

कौन-कौन थे सम्मान समारोह में

सम्मान पाने वालों में सिलीगुड़ी महकमा के डीएसपी (ग्रामीण) अचिंत्य गुप्त, फासीदेवा के बीडीओ संजू गुहा मजूमदार, इस्लामपुर के डीएसपी और प्रशासन व पुलिस के कई अधिकारी सम्मिलित रहे थे। सिलीगुड़ी नगर निगम के निवर्तमान विपक्ष के नेता रंजन सरकार भी उक्त समारोह में थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस