जलपाईगुड़ी [जागरण संवाददाता]। झुंड से बिछड़े जंगली हाथी ने गुरुवार की रात जलपाईगुड़ी के शिकारपुर ग्राम पंचायत के प्रधान पाड़ा गांव के चूड़ा व्यवसायी प्रेमानंद राय के बेडरूम में घुस कर सूंड से उठा कर पटक दिया। हाथी का पीछा करते हुए मौके पर पहुंचे वनकर्मियों ने हवा में दो राउंड फायरिंग भी की, लेकिन गजराज नहीं डरा।
    गंभीर रूप से घायल व्यवसायी प्रेमानंद को जलपाईगुड़ी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। वैकुंठपुर वन विभाग के बेलाकोबा रेंज के रेंज अफसर संजय दत्ता ने मृतक के परिवार को दो लाख रुपये की क्षतिपूर्ति दी। घटना की सूचना पाते ही ग्रामीण आक्रोशित हो उठे।
    आरोप है कि अवैध देसी शराब के अड्डों की वजह से हाथी के हमले की घटनाएं बढ़ी हैं। देसी शराब के ठेके में घुस हाथी हडिय़ा, शराब पी लेता है और गांव में उत्पात मचाता है। इस पर लगाम लगाने के लिए वन विभाग की ओर से कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है।
   वन विभाग सूत्रों के अनुसार झुंड से बिछड़े जंगली हाथी ने गुरुवार की रात को वैकुंठपुर वन विभाग के मनिंगाझोरा गांव में उत्पात मचाया। कई घरों को क्षतिग्रस्त कर दिया। वनकर्मियों के खदेडऩे पर वह शिकारपुर ग्राम पंचायत के प्रधान पाड़ा गांव में घुस गया। इस दौरान वह चूड़ा व्यवसायी प्रेमानंद राय के घर में घुस गया। राय के बेडरूम में घुस कर कमरे को तहस-नहस कर दिया। साथ ही व्यवसायी को सूंड से उठा कर पटक दिया। हाथी का पीछा करते हुए मौके पर पहुंचे वनकर्मियों ने उसे डराने के लिए दो राउंड हवा में गोलियां चलाईं। वैकुंठपुर वन विभाग के बेलाकोबा रेंज के अफसर संजय दत्ता ने कहा कि हाथी के इस तरह हिंसक हो जाने से वह हतप्रभ रह गए। अंधेरे के चलते व्यवसायी प्रेमानंद नहीं समझ पाए कि हाथी उनके ही दरवाजे पर खड़ा है। इस तरह से वे हाथी के हमले की चपेट में आ गए।  

Posted By: Rajesh Patel

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस