जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : बीते दस दिनों में सिलीगुड़ी मेट्रोपोलिटन पुलिस कमिश्नरेट इलाके में कुल आठ सड़क हादसे की घटना घटी है। जिसमें छह लोगों की मौत हुई है और नौ लोग बुरी तरह से जख्मी हुए हैं। यह आंकड़ा राज्य सरकार की सेफ ड्राइव सेव लाइफ को करारा तमाचा जड़ने जैसा ही है। इन दुर्घटनाओं में से अधिकांश शराब की वजह से हुई है।

ठंड के मौसम में कोहरा व धुंध की वजह से सड़क हादसों की संख्या बढ़ जाती है। ठंड का मौसम भले ही शुरु हो गया हो, लेकिन सिलीगुड़ी व आस-पास के इलाकों में कोहरा व धुंध का असर नहीं दिख रहा है। जबकि बीते दस दिनों में आठ बड़ी सड़क हादसा घटित हुई है। जिसमें कुल छह लोगों की मौत हुई है। इनमें पहला सड़क हादसा भक्ति नगर थाना क्षेत्र अंतर्गत इस्टर्न बाईपास के जलेश्वरी बाजार इलाके में घटी थी। बीते 25 नवंबर को बोल्डर लदी एक डंपर बाजार इलाके में सड़क किनारे लगे फल की दुकान पर पलट गया। डंपर चालक, खलासी और दो दुकानदार की मौत हो गई थी। इसके बाद बीते 26 नवंबर को भक्ति नगर थाना क्षेत्र के इस्टर्न बाईपास और प्रधान नगर थाना क्षेत्र इलाके में दो हादसा हुआ। जिसमें कई लोग जख्मी हुए। इसके बाद बीते 29 नवंबर को न्यू जलपाईगुड़ी थाना अंतर्गत फूलबाड़ी स्थित मिनी सचिवालय उत्तरकन्या के सामने एक ट्रक ने एक व्यक्ति को कुचल दिया। इसके बाद बीते दो दिसंबर को भक्ति नगर थाना क्षेत्र के सालूगाड़ा इलाके में राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक पिकअप और ट्रक की आमने-सामने की टक्कर हुई। इस घटना में पिकअप के पलटने से चालक बुरी तरह जख्मी हुआ। और बीते शुक्रवार की रात प्रधान नगर थाना क्षेत्र अंतर्गत सिलीगुड़ी गेस्ट हाउस के निकट महानंदा ब्रिज के पास ट्रक ने एक व्यक्ति को कुचल दिया।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते दस दिनों में घटी सड़क हादसों की वजह शराब ही रही है। शराब पीकर गाड़ी चलाने की वजह से दुर्घनाएं हुई है। जबकि राज्य सरकार सेफ ड्राइव सेव लाइफ अभियान के तहत ड्रंकन ड्राइव, तेज रफ्तार आदि के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है।

Edited By: Jagran