सिलीगुड़ी, जागरण संवाददाता। कोरोनावायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए पिछली वर्ष सिलीगुड़ी नगर निगम की ओर से मोबाइल वैन  सेवा शुरू की गई थी, जिसे फिलहाल बंद कर दिया गया है। वैन के के माध्यम से सिलीगुड़ी नगर निगम के विभिन्न वार्डों में घर-घर जाकर कोरोनावायरस की जांच के लिए सैंपल संग्रह किया जाता था। उक्त वैन के माध्यम से मुख्य रूप से बुजुर्गों दिव्यांगों का ही सैंपल संग्रह किया जाता था, जो सरकारी सैंपल संग्रह केंद्रों अथवा सिलीगुड़ी जिला अस्पताल तथा उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में जा पाने में असमर्थ थे। मोबाइल वैन सेवा बंद होने से लोगों की मुश्किलें बढ़  गई हैं।

बताया गया कि जब सितंबर-अक्टूबर महीने से कोविड-19 के मामलों में कमी आने लगी, इसे देखते हुए नगर निगम प्रशासन ने इस सेवा को बंद कर दिया। इससे बुजुर्गों तथा दिव्यांगों को कोरोनावायरस जांच के लिए सैंपल देने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बताया गया कि इस बार नए साल के शुरू से ही जिस तरह से कोरोनावायरस के नए मामलों में अचानक वृद्धि होने लगी तथा सिलीगुड़ी जिला अस्पताल, नगर निगम के अस्पताल मातृ सदन तथा उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में सैंपल देने के लिए लोगों की लंबी-लंबी लाइनें लगने लगी, इससे बुजुर्गों तथा दिव्यांग जनों को देर तक लाइन में खड़ा हो पाना मुश्किल होने लगा। इस बारे में सिलीगुड़ी नगर निगम के कमिश्नर सोनम वांगदी भूटिया का कहना है कि मोबाइल वैन फिर से चालू किए जा सके इसकी कोशिश की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि जनवरी महीने में अब तक सिलीगुड़ी तथा आसपास के क्षेत्रों में कोरोनावायरस के लगभग 6500 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं इस महीने अभी तक इस महामारी से संक्रमित 19 मरीजों की मौत भी हो चुकी है। यह मामले पिछले बार कोरोनावायरस के दूसरी लहार मई के बाद सर्वाधिक दर्ज किए जा रहे हैं।  बीते वर्ष मई महीने में ही सिलीगुड़ी व आसपास के क्षेत्रों में कोविड-19 के 15000 से ज्यादा मामले सामने आए थे इस दौरान 338 मरीजों की मौत भी हुई थी।

Edited By: Sumita Jaiswal