जागरण संवाददाता,सिलीगुड़ी: पूर्वोत्तर सीमा रेल माल ढुलाई को और सरल बनाने के लिए कई कदम उठा रही है। सामानों के परिवहन में और सुधार लाने के लिए कई कदम उठाए गए हैं।

पूसी रेलवे के सीपीआरओ शुभानन चंदा ने बताया है कि आने एवं जाने वाले सामानों की संभलाई के लिए नए स्टेशन खोले गए हैं। ग्राहकों तथा परिवहनकर्त्ताओं द्वारा विभिन्न सामानों के सुगम परिवहन को सक्षम बनाने के लिए सितम्बर, 2020 के दौरान फ्रेट ट्रैफिक के लिए कुछ और रेलवे स्टेशन खोले गए हैं।

ट्रेन माला की तर्ज के समान ब्लॉक रेक में आवागमन को सुनिश्चित करने के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियों तथा हिस्सेदारों के साथ अप्रत्यक्ष बैठकों का आयोजन किया गया। मंडल तथा मुख्यालय के अधिकारीगण अतिरिक्त ट्रैफिक को आकíषत करने के लिए प्रोत्साहन योजनाओं की निगरानी कर रहे हैं। उन्होंने आगे बताया कि रंगिया मंडल के बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट (बीडीयू) के प्रयासों के कारण इस रेल में ट्रैफिक की नई धारा की शुरुआत हुई है। इसके तहत अगरतला के लिए अमूल ब्राड के दूध तथा आईटीसी खाद्य उत्पाद 2 (दो) पार्सल वैनों में लोड किए गए। इसी तरह, बीडीयू की पहले के कारण सड़क परिवहन के स्थान पर रेल मार्ग के जरिए कटिहार मंडल में मक्के से भरे दो रेकों की ढुलाई की गई। चंदा ने आगे बताया कि रंगिया मंडल के अधीन विश्वानाथ चराली स्टेशन को आतरिक गुड्श ट्रैफिक के लिए खोल दिया गया। इसके अलावा उत्तर रेलवे एवं दक्षिण रेलवे के लिए मोगा-चंगसारी-मोगा तथा वंजीपलैयम-न्यू गुवाहाटी-वंजीपलैयम रूटों में राउंड ट्रिप पार्सल कारगो एक्सप्रेस ट्रेनों (पीसीईटी) की संभलाई के लिए पू.सी. रेल द्वारा अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी किए गए हैं। इससे दक्षिण तथा उत्तर भारत से पूर्वोत्तर क्षेत्र में तेजी से पैकेज्ड सामानों का परिवहन सुनिश्चित किया जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021