गंगटोक, जेएनएन। मुख्यमंत्री पवन चामलिंग ने कहा कि भारत में नाम की वजह से नेपाली समुदाय के सामने पहचान का संकट उत्पन्न हो गया है। भारतीय होने के बावजूद समुदाय को नेपाल से जोड़कर देखा जाता है।

वह नेपाली आदिकवि भानुभक्त आचार्य की 204वीं जयंती पर शहर के डेवलपमेंट एरिया स्थित मनन केंद्र में नेपाली साहित्य परिषद द्वारा आयोजित समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने सरकारी प्राथमिक स्कूलों में नेपाली भाषा के शिक्षकों की नियुक्ति की घोषणा की। साथ ही नेपाली साहित्यकार लेखक एवं कवि राधा कृष्ण शर्मा को मृत्योपरांत भानु पुरस्कार से सम्मानित किया। इतना ही नहीं सिक्किम के विभिन्न क्षेत्रों के एक दर्जन लोकानुरागियों को सम्मान श्री व सेवा श्री पुरस्कार से सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय नेपाली समुदाय की पहचान का संकट उत्पन्न हो गया है। नेपाली भाषा, गोरखा व नेपाली जाति की तीन अलग पहचान है। समुदाय के बुद्धिजीवियों को इस संबंध में एक नाम पर सहमति बनाकर पहचान का संकठ दूर करने की कोशिश करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि सिक्किम का नेपाली समुदाय 26 अप्रैल 1975 से अपनी भूमि के साथ भारतीय नागरिक है। सिक्किम का भारत में विलय होने के बाद नेपाली समुदाय को नुकसान हुआ है। विलय से पूर्व तत्कालीन राजशाही में नेपाली समुदाय को विधानसभा में आरक्षण था। विलय के बाद भूटिया लेप्चा समुदाय को जनजाति में शामिल किया गया लेकिन नेपाली समुदाय को इससे वंचित होना पड़ा। उन्होंने राज्य में नेपाली भाषा के विकास के लिए प्राथमिक स्तर के सरकारी स्कूलों में नेपाली शिक्षकों की नियुक्त की घोषणा की। साथ ही शहर में भानु भवन निर्माण की घोषणा की।

आचार्य भानुभक्त की 204वीं जयंती मनाई गई

नेपाली आदि कवि आचार्य भानु भक्त की 204वीं जयंती दार्जिलिंग, मिरिक और कालिम्पोंग में धूमधाम से मनाई गई। इस मौके पर शुक्रवार को सुबह शोभा यात्र व झांकियां निकाली गईं। जबकि विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम का आयोजन कर आदि कवि की भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई।

दार्जिलिंग से संवादसूत्र के मुताबिक रामायण पाठ, कविता व पुरस्कार विरतण के साथ कवि भानु भक्त की 204वीं जयंती धूमधाम के साथ मनाई गई। शुक्रवार को चौरास्ता में भानु सालिंग में नेपाली साहित्य सम्मेलन में श्रद्धांजलि, कविता व रामायण पाठ किया गया। इसके बाद जीटीए के सूचना व सांस्कृतिक विभाग की ओर से भानु जयंती का पालन किया गया।

इस अवसर पर राज्य के पर्यटन मंत्री गौतम देव, जीटीए चेयरमैन विनय तामांग, जिलाधिकारी जयोशी दासगुप्ता ने भानु सिलिंग में उनकी तस्वीर पर श्रद्धांजलि अर्पित की। वही जीटीए की ओर से जीडीएनएस रंगशाला में भानु भक्त सम्मान पुरस्कार मास्टर मित्र सेन थापा पुरस्कार प्रदान किया गया। इसके अलावा साहित्य क्षेत्र में घूम निवासी धनहांग सुब्बा, नाटक जगत के क्षेत्र में कर्सियांग निवासी टांग शर्मा, पत्रकारिता क्षेत्र में डी पी शर्मा व मास्टर मित्र सेन थापा पुरस्कार, लोकपाल संगीत क्षेत्र में सिंटोंग वासी सनकुमार मांझी को मिला। 

Posted By: Preeti jha