अब तक देश के विभिन्न भागों में 17 स्टेशनों पर 298 आइसोलेशन कोच तैनात किए जा चुके हैं, जिनकी कुल बिस्तर क्षमता लगभग 4700 है भारतीय रेलवे द्वारा अब तक 4400 से अधिक कोविड देखभाल कोच तैयार किए गए, जिनमें 70,000 आइसोलेशन बिस्तर उपलब्ध हैं

जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी :

कोविड महामारी से जारी भारत के संघर्ष में रेल मंत्रालय यथासंभव और तत्परता से सहयोग कर रहा है और कदम उठा रहा है। इसमें राज्यों की माग पर कोविड देखभाल डिब्बों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर उपलब्ध करने से लेकर मानव संसाधन और सामानों के एक स्थान से दूसरे स्थान पर सुगमतासे पहुंचाना शामिल है। भारतीय रेलवे ने अब तक 4400 रेल डिब्बों को आइसोलेशन कोच में तब्दील किया है जिनमें लगभग 70,000 आइसोलेशन बिस्तर तैयार किए गए हैं।

मिली जानकारी के अनुसार असम राज्य सरकार की माग पर रेलवे एनएफ रेलवे ने गुवाहाटी में 21 और असम के सिल्चर के पास स्थित बदरपुर में 20 आइसोलेशन कोच सुगमता से पहुंचा दिये। इससे पूर्व इस सप्ताह की शुरुआत में ही साबरमती, चंडलोडिया और दिमापुर में भी आइसोलेशन कोच तैनात किए थे।

अब तक विभिन्न राज्यों को उनकी माग के आधार पर कुल 298 आइसोलेशन कोच उपलब्ध कराए गए हैं जिनकी कुल बिस्तर क्षमता 4700 से अधिक है। हाल ही में गुजरात राज्य सरकार की माग पर रेलवे ने साबरमती में 10 और चंडलोडिया में 6 कोविड देखभाल डिब्बों को उपलब्ध कराया। नागालैंड राज्य सरकार की माग पर रेलवे ने दीमापुर में 10 आइसोलेशन कोच तैनात किए हैं। इसके अलावा जबलपुर में उपलब्ध कराए गए 5 आइसोलेशन कोच की भी सेवाएं शुरू हो गई हैं, जिनकी कुल बिस्तर क्षमता 70 है। पालघर जिला प्रशासन के साथ नियम एवं शर्तो के समझौतों के अनुरूप पालघर में भी 21 कोविड देखभाल कोच की सेवाएं शुरू हो गई हैं। राज्य स्वस्थ्य विभाग की मदद के लिए आपात स्थिति में उपयोग हेतु ऑक्सीजन सिलेंडर के दो सेट भी उपलब्ध कराए गए हैं।

दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में तैनात किए गए कोविड देखभाल डिब्बों की ताजा स्थिति इस प्रकार है।

महाराष्ट्र के नंदुरबार में पिछले दो दिनों के दौरान 10 नए मरीजों को भर्ती किया गया जबकि पहले भर्ती किए गए मरीजों में से 10 को छुट्टी दे दी गई। वर्तमान समय में इस कोविड देखभाल सुविधा का 26 मरीज लाभ प्राप्त कर रहे हैं। यहा अब तक कुल 114 मरीजों को भर्ती किया गया जिनमें से राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा 88 मरीजों को छुट्टी दी गई। रेलवे ने अजनी, इनलैंड कंटेनर डीपो में भी 11 कोविड देखभाल कोच तैनात किए हैं जिनमें से 1 कोच चिकित्सा कíमयों और चिकित्सा सामाग्री के लिए आरक्षित है। इस सुविधा केंद्र को नागपुर नगर निगम को सौंप दिया गया है। यहां अब तक 9 मरीज भर्ती हुए और 6 को छुट्टी दी गई।

मध्य प्रदेश राज्य सरकार की माग के क्रम में पश्चिमी रेलवे की रतलाम डिवीजन ने इंदौर के करीब तीही में 22 कोविड देखभाल डिब्बे उपलब्ध कराएं हैं जिनकी कुल क्षमता 320 बिस्तरों की है। यहा अब तक 19 मरीजों को भर्ती किया गया और एक मरीज को छुट्टी दी गई। भोपाल में 20 कोविड देखभाल कोच उपलब्ध कराए गए हैं।

दिल्ली में भारतीय रेलवे ने राज्य सरकार की कुल 75 कोविड देखभाल डिब्बों की माग पूरी की जिनकी कुल क्षमता 1200 बिस्तनरों की है। इनमें से 50 रेल डिब्बे शकूरबस्ती में जबकि 25 डिब्बे आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर तैनात किए गए हैं। दिल्ली कोविड देखभाल रेल कोचों में अब तक कुल 5 मरीज भर्ती हुए और इन सभी को छुट्टी दी जा चुकी है। दिल्ली में इन देखभाल डिब्बों में सभी 1200 बिस्तर इस समय उपलब्ध हैं।

उपर्युक्त राज्यों में अब तक उपलब्ध कराए गए कोविड देखभाल रेल डिब्बों में ता?ा आकड़ों के अनुसार कुल 177 लोगों को भर्ती किया गया जिनमें से 117 लोगों को छुट्टी दी गई। वर्तमान समय में 60 मरीज इस सुविधा का लाभ प्राप्त कर रहे हैं। असम में एनएफ रेलवे द्वारा असम के गुवाहाटी और बदरपुर में हाल ही में उपलब्ध कराये गए कोविड देखभाल डिब्बों को मिलकर सबसे रेल आइसोलेशन सेंटर में लगभग 4700 बिस्तर उपयोग के लिए उपलब्ध हैं।

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार से अब तक कोविड देखभाल डिब्बों की माग नहीं आई थी, इसके बावजूद रेलवे ने फैजाबाद, भदोही, वाराणसी, बरेली और नजीबाबाद में प्रत्येक स्थान पर 10-10 डिब्बे पहले से ही उपलब्ध करा दिये हैं। इन 50 कोविड देखभाल डिब्बों की कुल क्षमता 800 बिस्तरों की है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप