सिलीगुड़ी, [जागरण संवाददाता] । मुख्यमंत्री ममता ने पहाड़ के विकास के लिए पार्वत्य क्षेत्र को लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि शांति बनी रहेगी, तभी विकास की गति आगे बढ़ेगी।

राज्य सरकार पहाड़ के विकास के लिए गोरखालैंड टेरिटोरियल एडमिनिस्ट्रेशन (जीटीए) का हर तरह से सहयोग करने को तैयार है। जीटीए बोर्ड ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर के चेयरमैन विनय तमांग व वाइस चेयरमैन अनित थापा को पूरी तरह से सहयोग किया जाएगा। मुख्यमंत्री सोमवार को सिलीगुड़ी के कंचनजंघा स्टेडियम में उत्तर बंग उत्सव के उद्घाटन के मौके पर बोल रही थीं। गौरतलब है कि पिछले साल पहाड़ पर पृथक गोरखालैंड राज्य की मांग पर गोरखाजन मुक्ति मोर्चा समेत पार्वत्य क्षेत्र के विभिन्न दलों द्वारा किए 104 दिन की हड़ताल खत्म होने के बाद पहली बार सिलीगुड़ी में किसी समारोह को ममता संबोधित कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि हिल्स एरिया डेवलपमेंट कमेटी के अलावा विभिन्न डेवलपमेंट बोर्ड द्वारा पहाड़ के विकास के लिए कार्य किया जा रहा है। जब शांति बनी रहेगी, तभी विकास होगा। विकास होगा तो पर्यटक खुद पहाड़ पर खींचे चले आएंगे। 

उन्होंने इस मौके पर विभिन्न परियोजनाओं उद्घाटन व शिलान्यास भी किया। इस मौके पर ममता ने एक बार फिर बिना नाम लिए पूर्ववर्ती वाममोर्चा सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि पहले उत्तर बंगाल को पूरी तरह से उपेक्षित करके रखा गया था। जब से वे मुख्यमंत्री बनी हैं, तब से प्राय: हर महीने एक बार उत्तर बंगाल का दौरा करती हैं। सिलीगुड़ी को केंद्रित कर काफी विकासमूलक कार्य किए जा रहे हैं। सिलीगुड़ी में चतुर्थ महानंदा ब्रिज का कार्य पूरा हो गया है।

भारत-नेपाल सीमा से लेकर भारत-बांग्लादेश सीमा तक एशियन हाइवे का निर्माण हो रहा है। तीनधरिया में एनएच-55 का काम राज्य सरकार ने लिया है। सेवक से सिक्किम तक सड़क निर्माण किया जा रहा है। साढ़े तीन हजार करोड़ की लागत से दक्षिण से उत्तर बंगाल तक एक अन्य सड़क भी तैयार किया जा रहा है। बंगाल सफारी पार्क में पर्यटक जा रहे हैं। गाजलडोबा मेगा टूरिज्म प्रोजेक्ट 'भोरेर आलो' शुरू किया जाएगा। दार्जिलिंग के रुग्ण चाय उद्योग के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। 

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने उत्तर बंगाल के नौ विशिष्ट जनों को 'बंग रत्न' से सम्मानित किया। वहीं दार्जिलिंग, कलिंपोंग व जलपाईगुड़ी जिलों के सभी विधानसभा क्षेत्रों के एक-एक मेधावी विद्यार्थी व कन्याश्री परियोजना के तहत जरूरतमंदों को आर्थिक सहायता प्रदान की गई। इस मौके पर राज्य के लोक निर्माण, खेल व युवा मामलों के मंत्री अरूप विश्वास, पर्यटन मंत्री गौतम देव, उत्तर बंगाल विकास मंत्री रवींद्रनाथ घोष, जीटीए बोर्ड ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर के चेयरमैन विनय तमांग व राज्यसभा सांसद शांता छेत्री समेत अन्य उपस्थित थे।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप