संवाद सूत्र , रंग्पो(सिक्किम) :

मा दुर्गा की प्रतिमाओं के विसर्जन के साथ ही नौ दिवसीय विजयदशमी और दशहरा पर्व का समापन हो गया। सुबह से ही दुर्गा की प्रतिमाओं के विसर्जन का सिलसिला शुरू हुआ जो शाम तक जारी रहा। बारिश के कारण व्यवधान उत्पन्न होने के बावजूद सभी कार्यक्रम शातिपूर्वक संपन्न हो गए।

इस बार पूजा समारोह में सभी प्रकार के कोविड प्रोटोकाल का कड़ाई के साथ पालन करने का प्रयास हर पूजा आयोजन समिति का रहा। राजधानी गंगटोक के ठाकुरबारी में विशेष पूजा आयोजित की गई थी।

सिंगताम के भी फारेस्ट कालोनी में भी पूजा आयोजित की गई थी। सिक्किम के प्रमुख प्रवेशद्वार रंग्पो में तीन स्थानों पर दुर्गापूजा आयोजित की गई । रंग्पो में तिस्ता नदी में दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन किया गया।

दक्षिण सिक्किम नामची ,जोरथाग ,मंगन ,गेजिंग सहित अन्य इलाकों से भी पूजन कार्यक्रम शातिपूर्ण ढंग से संपन्न होने के समाचार प्राप्त हुए हैं। अभी नेपाली या गोरखा समुदाय का दसई टीका चल रहा है। परंपरा है कि घर के बड़े-बुजुर्ग अपने छोटों को टीका कर उनकी उन्नति और खुशहाल जीवन की कामना करते हैं।

----------

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस