संवाद सूत्र,दार्जिलिंग: हिमालय पर्वतारोहण संस्थान द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर सोमवार को स्थानीय चौरस्ता में 7500 मीटर का तिरंगा फहराया गया ।

इस संबंध में संस्थान के प्रिंसिपल कैप्टन जय किशन ने बताया कि 8 अगस्त 1942 भारत छोड़ो आदोलन के इतिहास को याद करते हुए ,माल रोड में महात्मा गाधी और राहुल संास्कृतायन के स्टेचू की साफ-सफाई करने के साथ ही चौरस्ता परिसर में तिरंगा झडा फहराया। उक्त तिरंगा यात्रा सिक्किम से शुरू हुई थी 25 अप्रैल 2021 को कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में 15 अगस्त को यह तिरंगा फहराया गया उसके बाद अटलाटिका में तिरंगा फहराया गया और सोमवार को स्थानीय चौरस्ता में तिरंगा लहरा कर भारत छोड़ो आदोलन के साथ साथ स्वतंत्रता के 75 वां अमृत वर्ष मनाया गया। यह एच एम आई के साथ-साथ भारत की भावना से जुड़ा है तिरंगा हमारी आन बान और शान है। जिन स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी जान की कुर्बानी दी है उनको हम याद कर रहे हैं उनको नमन करते हुए हमने फ्र ीडम वॉक शुरू किया है जिसमें 5 वर्ष से लेकर 55वर्ष तक के लोगों ने मॉर्निंग वाक् किया आज जो तिरंगा चौराहा में फहराया गया है शायद इतिहास में इतनी बड़ी तिरंगा पहली फहराया गया है हम हिमालय पर्वतारोहन संस्थान की ओर से सभी को स्वतंत्रता के 75 वी अमृत वर्ष की शुभकामना और बधाई दी है।

----------------

चित्र परिचय: एचएमआई की ओर से चौरस्ता में फहराया गया तिरंगा। जागरण

---------------- -------------

---------------

--------------

-----------------

------------------

-------------------

---------------------

यह एच एम आई के साथ-साथ भारत की भावना से जुड़ा है तिरंगा हमारी आन बान और शान है। जिन स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी जान की कुर्बानी दी है उनको हम याद कर रहे हैं उनको नमन करते हुए हमने फ्र ीडम वॉक शुरू किया है जिसमें 5 वर्ष से लेकर 55वर्ष तक के लोगों ने मॉर्निंग वाक् किया आज जो तिरंगा चौराहा में फहराया गया है शायद इतिहास में इतनी बड़ी तिरंगा पहली फहराया गया है हम हिमालय पर्वतारोहन संस्थान के तरफ से सभी को स्वतंत्रता के 75 वी अमृत वर्षका शुभकामना और बधाई देते है ।

Edited By: Jagran