-वीडियो वायल होने के बाद मची खलबली

-विरोधियों ने की चुनाव आयोग से शिकायत की तैयारी

-भाजपा नेताओं ने की पूरे मामले की निंदा,बताया-तृणमूल का यही है कल्चर

-दिलीप सिंह ने कहा, हिम्मत है तो किसी का घर उजाड़ कर देखें मंत्री

जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी: राज्य के पर्यटन मंत्री और डाबग्राम-फूलबाड़ी विधानसभा क्षेत्र के विधायक गौतम देव पर वोट के लिए एक व्यक्ति को धमकाने का आरोप लगा है। इसका वीडियो भी वायरल हुआ है। इस मामले के सामने आने के बाद से खलबली मची हुई है। मिली जानकारी के अनुसार वे चुनाव प्रचार के दौरान ठाकुर नगर इलाके में पहुंचे। वहा उन्होंने लोगों को कहा कि आप सरकारी जमीन में बसे हुए हैं। आराम से रहिए। लेकिन बीजेपी-बीजेपी करेंगे तो तो उजाड़ दिए जाएंगे। वहां एक आश्रम के सन्यासी को भी धमकाते हुए तृणमूल को समर्थन देने के लिए कहा। अगर ऐसा नहीं हुआ तो उन्हें भी यहा से उजाड़ कर विधानसभा क्षेत्र से बाहर कर दिया जाएगा। इस धमकी भरे वीडियो के वायरल होने पर मंत्री ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि यहा इस महंत ने बहुत बड़ी सरकारी जमीन पर कब्जा किए हुए हैं। यहा बीजेपी और आरएसएस के लोगों की मीटिंग होती है। आश्रम के नाम पर यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

दूसरी ओर वायरल वीडियो में पर्यटन मंत्री गौतम देव सीधे शब्दों में सन्यासी को कहते हैं कि उन्हें चुनाव में तृणमूल का साथ देना होगा। अगर ऐसा नहीं हुआ तो उन्हें यहा से भगा दिया जाएगा। मेरा नाम गौतम देव है और हम जो कहते हैं वह करके रहते हैं। गौतम देव इतने पर ही नहीं रुकते वह कहते हैं उन्हें सब पता है कि यहां क्या होता है। गौतम देव ने कहा कि मैं यहा से चुनाव जीत रहा हूं और फिर मंत्री बनने वाला हूं। मंत्री की धमकी से डरे सन्यासी ने कहा कि हम कहा जाएंगे। इस पर मंत्री गौतम देव ने कहा कि वह खुद सन्यासी हैं। यह सब मोदी राज में चलेगा। यह बंगाल है यहा यह सब नहीं चलेगा। साथ नहीं दिया तो सरकारी जगह पर बैठे हो। खाली करना ही पड़ेगा।

विरोधियों ने इस मामले की शिकायत चुनाव आयोग से करने की तैयारी कर ली है। डाबग्राम-फूलबाड़ी से भारतीय जनता पार्टी उम्मीदवार शिखा चटर्जी ने पत्रकारों को बताया कि इस प्रकार की धमकी को भाजपा बर्दाश्त नहीं करेगी। चुनाव के समय वोट या समर्थन कौन किसे देगा यह उसका व्यक्तिगत मत है। चुनाव के समय किसी को उजाड़ देने की धमकी देना भी दंडनीय अपराध है। इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की जाएगी। मंत्री के इस तेवर स्पष्ट कर दिया है कि जो सोच मुख्यमंत्री की है वही सोच उनके मंत्री गौतम देव की है। इससे टीएमसी का कल्चर स्पष्ट होता है। वाम मोर्चा और काग्रेस के संयुक्त उम्मीदवार दिलीप सिंह ने कहा कि वह बस्ती उन्नयन समिति के अध्यक्ष भी हैं। पिछले 10 वर्षो से क्षेत्र के विधायक के साथ गौतम देव राज्य के मंत्री भी रहे हैं। ऐसे में जिस प्रकार की बातें वे सरकारी जमीन पर वर्षो से बैठे एक सन्यासी को उजाड़ देने की धमकी दे रहे हैं,वह चुनाव आचार संहिता का सीधा उल्लंघन है। वे पत्रकारों के माध्यम से बस्ती इलाके के सभी लोगों को आश्वस्त करना चाहते हैं की गौतम देव मंत्री चुनाव हार रहे हैं।इसलिए वे हताशा में ऐसी बातें करते हैं। बस्ती इलाके में किसी एक व्यक्ति को भी उजाड़ने नहीं दिया जाएगा। इसके लिए जो भी संघर्ष करना होगा करेंगे। मंत्री में हिम्मत है तो किसी को उजाड़ कर दिखाएं।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021