अलीपुरद्वार [संवादसूत्र]। फालाकाटा थाना में मानवाधिकार का उल्लंघन करते हुए एक युवक को गत दिनों खुलेआम पीटने के मामले में फोर्स लीव पर भेजे गए अलीपुरद्वार के डीएम निखिल निर्मल व उनकी पत्नी नंदिनी कृष्णन के खिलाफ इसी थाने में एफआइआर दर्ज करा दी गई है। इससे उनकी मुश्किलें और बढ़ सकती हैं।
डीएम  व उनकी पत्नी के कोप का शिकार बने विनोद सरकार के पिता राजमोहन सरकार ने मंगलवार की शाम को फालाकाटा थाना में एफआइआर दर्ज कराई। मोहन सरकार ने कहा कि दोपहर तक फालाकाटा थाना की पुलिस एफआइआर दर्ज करने में आनाकानी कर रही थी। बाद में शाम को दर्ज कर ली। मोहन सरकार ने कहा कि उन्हें न्याय चाहिए। उन्होंने उनके बेटे को पीटने के मामले में डीएम व उनकी पत्नी की उचित सजा की मांग की है। उन्होंने कहा कि पुलिस पर उन्हें भरोसा है। वह आरोपितों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी।  
बता दें कि फेसबुक ग्र्रुप में डीएम की पत्नी को लेकर कथित तौर पर अभद्र टिप्पणी करने के कारण उसके खिलाफ बीडीओ ने एफआइआर दर्ज कराई थी।इस मामले में आरोपित विनोद सरकार को जब पुलिस ने गिरफ्तार किया तो अलीपुरद्वार के डीएम निखिल निर्मल व उननी पत्नी नंदिनी कृष्णन ने फालाकाटा थाने में जाकर उसकी जमकर पिटाई की। इस पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो राज्य सरकार ने तुरंत एक्शन लेते हुए निखिल निर्मल को फोर्स लीव पर भेज दिया गया। उनके स्थान पर डीएम का प्रभार एडीएम को सौंप दिया गया। अब पता चला है कि उनके ट्रांसफर के लिए सरकार ने चुनाव आयोग को पत्र लिखा है। इस समय मतदाता सूची में संशोधन का काम होने से राज्य सरकार चुनाव आयोग की अनुमति के बिना ट्रांसफर नहीं कर सकती। 

 

Posted By: Rajesh Patel