जामताड़ा : जिले मे फणि चक्रवात का असर शुक्रवार सुबह से ही दिखने लगा। सुबह हल्की बूंदाबांदी के बाद दोपहर से मूसलाधार बारिश शुरू हो गई। दोपहर बाद हवा तेज होने लगी। हालांकि अब तक जिले में किसी नुकसान की खबर नहीं है। सुबह से बादल छाए रहने से तापमान में काफी गिरावट आई है। इधर प्रशासन ने भी पंचायत स्तर से जिला मुख्यालय तक चक्रवात के मद्देनजर राहत व बचाव के लिए पुख्ता इंतजाम किया है। एहतियात के तौर पर जिला प्रशासन ने शनिवार को सभी स्कूल बंद रखने का निर्देश दिया है। फणि को लेकर जिला प्रशासन मुस्तैद : फणि चक्रवात आने की सूचना मिलते ही उपायुक्त डॉ. जटाशंकर चौधरी ने शुक्रवार सुबह से ही पुलिस व प्रशासनिक पदाधिकारी के संयुक्त सहयोग से जिले में संभावित आपदा से निबटने की मुकम्मल व्यवस्था की है। प्रखंड स्तर पर बीडीओ, सीओ व थाना प्रभारी तथा जबकि जिला स्तर पर अपर समाहर्ता व एसडीओ को नोडल अधिकारी प्रतिनियुक्त करते हुए अलर्ट कर दिया है। प्रखंड व जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। जहां मौजूद पदाधिकारी हर क्षेत्रों की गतिविधियों से संभावित अवधि तक जानकारी लेते रहेंगे। नियंत्रण कक्ष में मिल रही हर सूचनाओं का आदान प्रदान उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक कर रहे हैं। बीडीओ ने सभी पंचायत सचिव, रोजगार सेवक को अपने पंचायत मुख्यालय में मौजूद रहकर हर गांव की गतिविधियों पर नजर रखने का निर्देश दिया है। कहीं भी आवश्यकता पड़ने पर प्रखंड नियंत्रण कक्ष को सूचित करने का निर्देश दिया है। इधर अंचलाधिकारी ने भी राजस्व ग्राम प्रधान, हल्का कर्मचारी को गांव में लोगों को फणि चक्रवात के प्रति जागरूक करने को कहा है। उपायुक्त ने वज्रपात व आपदा की स्थिति से निपटने के लिए अस्पतालों को भी अलर्ट रहने का निर्देश दिया है। साथ ही सभी प्रखंडों में समुचित दवा एवं मेडिकल टीम गठित करने को कहा है। सुबह से भयभीत रहे लोग : फणि चक्रवात से होगी तबाही जैसी खबर गुरुवार रात से ही चर्चा में रही। लोग शुक्रवार सुबह से ही चक्रवात से होने वाले तबाही से बचाव को प्रयत्नशील रहे। सड़क किनारे अस्थायी दुकान लगाने वाले दुकानदार दोपहर को ही दुकान बंद कर अपने घर चल दिए। इसी प्रकार लोग अपने घरों में टीबी के माध्यम से अन्य राज्य व जिले में चक्रवात के असर से रूबरू होते रहे। दिन भर आसमान में छाए रहे बादल : भले ही फणि चक्रवात का आक्रामक असर जिले में नहीं दिखाई दिया हो, लेकिन सुबह से शाम तक आसमान में काले बादल छाया रहा। इतना ही नहीं रिमझिम बारिश सुबह से शुरू हुई और दोपहर बाद मूसलाधार बारिश में परिवर्तित हो गया। करीब डेढ़ घंटे तक हुए मूसलाधार बारिश के बाद रिमझिम बारिश का क्रम देर शाम तक जारी रही। लोग अपने घरों में ही दुबके रहे। ऐसी स्थिति में शहर में वीरानगी का आलम बना रहा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस