जागरण संवाददाता, कोलकाता। पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान फेनी के प्रतिकूल असर के मद्देनजर राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी आरिज आफताब ने स्ट्रांग रूम और ईवीएम की सुरक्षा के लिए किए गए सुरक्षा संबंधी उपायों के बारे में राज्य सरकार से रिपोर्ट तलब की है।

शुक्रवार को राज्य के अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी संजय बसु ने इस बारे में कहा कि राज्य की 18 लोकसभा सीटों पर मतदान हो चुके हैं। इनमें से कुछ चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में भी पड़ते हैं, इसलिए मतदान के बाद स्ट्रांग रूम में ईवीएम की सुरक्षा को लेकर राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी गई है।

उल्लेखनीय है कि आगामी छह मई को राज्य के सात संसदीय क्षेत्रों में मतदान होने हैं। इस प्रक्रिया के लिए इस्तेमाल होने वाले ईवीएम और अन्य मतदान संबंधी यंत्रों की सुरक्षा के संबंध में जो उपाय किए गए हैं, उसके बारे में भी राज्य सरकार से रिपोर्ट तलब की गई है।

चूंकि चक्रवात का असर पांच मई तक रहने वाला है और उसके ठीक एक दिन बाद चुनाव होना है, इसलिए यह जरूरी है कि मतदान से जुड़ी चीजें सुरक्षित और संरक्षित रहनी चाहिए। संजय बसु ने बताया कि आपदा के समय में राज्य प्रशासन की पहली प्राथमिकता नागरिकों की सुरक्षा रहती है, इसलिए पूरी परिस्थिति पर चुनाव आयोग ने नजर बनाए रखी है। जिला निर्वाचन अधिकारियों (डीईओ) को तैयारियों के संबंध में सभी योजनाओं की समीक्षा करने का निर्देश दिए गए हैं। स्ट्रांग रूम की सुरक्षा के लिए राज्य का चुनाव आयोग कार्यालय राज्य सरकार के लगातार संपर्क में है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस