राज्य ब्यूरो, कोलकाता। West Bengal Municipal Elections 2020. बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष सोमेन मित्रा ने रविवार को स्पष्ट किया कि निकाय चुनाव के लिए उनकी पार्टी वाममोर्चा के साथ गठबंधन नहीं करेगी। मित्रा ने हालांकि यह जरूर कहा कि वामो के साथ सीटों को साझा करने के फार्मूले को अपनाया जाएगा। मीडिया से मुखातिब हुए सोमेन ने कहा कि कांग्रेस व वाममोर्चा जहां-जहां मजबूत होंगे, वहां वे अपने उम्मीदवार उतारेंगे। इसी फार्मूले पर चुनाव लड़ने की रणनीति है। बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी साफ कर दिया कि उनकी पार्टी बैलेट पेपर नहीं, बल्कि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से चुनाव चाहती है।

गौरतलब है कि बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बैलेट पेपर से निकाय चुनाव के पक्ष में हैं। वे विभिन्न जनसभाओं से यह बात कह चुकी हैं। मित्रा ने कहा कि कांग्रेस को निकाय चुनाव के समय को लेकर कोई समस्या नहीं है, लेकिन तिथियां विभिन्न बोर्ड परीक्षाओं को ध्यान में रखकर तय की जानी चाहिए। उनकी पार्टी इस बाबत राज्य चुनाव आयोग को सूचित कर चुकी है। दूसरी तरफ वामो में शामिल प्रमुख घटक दल माकपा कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ना चाहती है। माकपा विधायक दल के नेता सुजन चक्रवर्ती ने कहा-'हम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा को हराने के लिए हमेशा कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ने का आ²वान करते आए हैं।'

राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि वर्तमान में बंगाल में कांग्रेस व वामो दोनों की हालत बेहद खराब है। चुनाव-दर-चुनाव उनके पैरों के तले से राजनीतिक जमीन सरकती जा रही है। ऐसे में दोनों के गठबंधन करके चुनाव लड़ने से भी खास फायदा होने की उम्मीद नहीं दिख रही। पिछले चुनावों में इसकी बानगी मिल चुकी है इसलिए कांग्रेस इसे लेकर खास उत्साही नहीं थी और अब प्रदेश अध्यक्ष ने यह साफ भी कर दिया है।

बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस