संसू.गंगटोक: गंगटोक नया एसटीएनएम अस्पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ टेली के सफलता को लेकर मुख्यमंत्री पीएस गोले ने खुशी व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि एसटीएनएम अस्पताल कार्डियोलॉजी विभाग ने एडवास हार्ट फेलियर मामले को सफलतापूर्वक शल्यक्त्रिया करना एक बड़ी उपलब्धि है। मुख्यमंत्री ने उक्त टोली को बधाई देते हुए आगामी दिनों के लिए शुभकामना दी है।

उन्होंने अपनी आधिकारिक सामाजिक संजाल में उल्लेख किया है कि कार्डियक रीसिंक्त्राइजेशन थेरेपी (सीआरटी-पी) के माध्यम से कार्डियोलॉजी विभाग ने एक 47 वर्षीय हृदय रोगी का शल्यक्त्रिया कर उन्हें रोग मुक्त करने का काम किया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक उक्त रोगी का हृदय केवल 15 प्रतिशत ही काम कर रहा था। रोगी दो साल से रोगग्रस्त थे। बताया गया है कि यह शल्यक्त्रिया एक चुनौतीपूर्ण और एक महंगा कार्य था। इसका उपचार केवल देश के महानगरीय अस्पतालों में किया जाता था। इसके लिए करीब 11 लाख रुपये से अधिक धनराशि खर्च होता है। तथापि सिक्किम सरकार के अधीनस्थ राच्य के एसटीएनएम अस्पताल से केवल 3.5 लाख रुपये में शल्यक्त्रिया संपन्न किया था। इसके लिए राच्य सरकार ने मुख्यमंत्री मेडिकल असिस्टेंट सेल के पक्ष से वित्तीय सहयोग प्रदान किया था।

मुख्यमंत्री गोले ने इस कार्य में संलग्न कार्डियोलाजी की टीम के प्रति आभार प्रकट करते हुए बधाई दी है। उन्होंने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य सुविधा को विश्वस्तरीय बनाने के लिए राच्य सरकार सभी सहयोग और सुविधा प्रदान करता रहेगा।

-------

---------

------------

संसू.गंगटोक: गंगटोक नया एसटीएनएम अस्पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ टेली के सफलता को लेकर मुख्यमंत्री पीएस गोले ने खुशी व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि एसटीएनएम अस्पताल कार्डियोलॉजी विभाग ने एडवास हार्ट फेलियर मामले को सफलतापूर्वक शल्यक्त्रिया करना एक बड़ी उपलब्धि है। मुख्यमंत्री ने उक्त टोली को बधाई देते हुए आगामी दिनों के लिए शुभकामना दी है।

उन्होंने अपनी आधिकारिक सामाजिक संजाल में उल्लेख किया है कि कार्डियक रीसिंक्त्राइजेशन थेरेपी (सीआरटी-पी) के माध्यम से कार्डियोलॉजी विभाग ने एक 47 वर्षीय हृदय रोगी का शल्यक्त्रिया कर उन्हें रोग मुक्त करने का काम किया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक उक्त रोगी का हृदय केवल 15 प्रतिशत ही काम कर रहा था। रोगी दो साल से रोगग्रस्त थे। बताया गया है कि यह शल्यक्त्रिया एक चुनौतीपूर्ण और एक महंगा कार्य था। इसका उपचार केवल देश के महानगरीय अस्पतालों में किया जाता था। इसके लिए करीब 11 लाख रुपये से अधिक धनराशि खर्च होता है। तथापि सिक्किम सरकार के अधीनस्थ राच्य के एसटीएनएम अस्पताल से केवल 3.5 लाख रुपये में शल्यक्त्रिया संपन्न किया था। इसके लिए राच्य सरकार ने मुख्यमंत्री मेडिकल असिस्टेंट सेल के पक्ष से वित्तीय सहयोग प्रदान किया था।

मुख्यमंत्री गोले ने इस कार्य में संलग्न कार्डियोलाजी की टीम के प्रति आभार प्रकट करते हुए बधाई दी है। उन्होंने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य सुविधा को विश्वस्तरीय बनाने के लिए राच्य सरकार सभी सहयोग और सुविधा प्रदान करता रहेगा।

-------

Edited By: Jagran