जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : बाल विवाह रोकने और महिला तस्करी के साथ पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए रविवार को खोरीबाड़ी प्रखंड कार्यालय पर कार्यशाला का आयोजन डिस्ट्रिक्ट लीगल एंड फोरम की ओर से किया गया। इसमें प्रखंड के सभी स्वयंसेवी संगठन, शिशु सुरक्षा समितियां, पंचायत प्रधान समेत पुलिस के कई अधिकारी मौजूद थे। बतौर मुख्य अतिथि एसडीओ सिलीगुड़ी सिराज दानेश्वर ने कहा कि बाल विवाह जहां समाज के लिए कलंक है, वहीं इसे रोकना प्रशासन के लिए चुनौती बना हुआ है। कार्यशाला में डिस्ट्रिक्ट लीगल एडं फोरम की ओर से प्रोफेसर रंजीता चक्रवर्ती और सचिव अमित सरकार ने कहा कि मानव तस्करी करने वाले लोग हमारे बीच के ही होते हैं। महिला सशक्तीकरण के साथ बालिकाओं को भी मजबूती प्रदान करना होगा। भारत में वर्ष 2001 से 2016 के बीच बच्चों के प्रति होने वाले अपराधों में 880 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इन 16 सालों में बच्चे के प्रति अपराध 10814 से बढ़कर 106958 हो गए हैं। इस प्रकार की कार्यशाला प्रत्येक प्रखंड में आयोजित करने पर बल भी दिया गया।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran