-'पांच खरब की अर्थव्यवस्था में चार्टर्ड अकाउंटेंट्स का योगदान' में सीए के योगदान पर चर्चा

-'हृदयघात' के विविध पहलुओं पर विशेषज्ञों ने चार्टर्ड अकाउंटेंट्स को बताए महत्वपूर्ण गुर जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : दि इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आइसीएआई) की सिलीगुड़ी शाखा की ओर से शुक्रवार एक जुलाई को यहां भव्य रूप में 74वां चार्टर्ड अकाउंटेंट्स डे मनाया गया। इस उपलक्ष्य में, तीन बत्ती मोड़ के समीप ओवर ब्रिज के निकट स्थित उक्त शाखा के आइसीएआई भवन में विशेष समारोह आयोजित किया गया। समारोह स्थल पर संस्था का झंडा फहराया गया। इस अवसर पर आइसीएआई के अध्यक्ष सी.ए. डॉ. देवाशीष मित्रा व उपाध्यक्ष सीए अनिकेत एस. तलाती ने आनलाइन समस्त सीए सदस्यों को संबोधित किया व सीए डे की बधाइयां दी। वहीं, 'हृदयाघात' विषयक एक सेमिनार आयोजित हुआ। इसमें हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश नंदा ने सभी उपस्थित लोगों को हृदय की देखभाल के कई गुर बताए। वहीं, एक नर्सिग होम की टीम ने प्रायोगिक रूप में दिखाया व बताया कि कभी किसी को हर्ट अटैक हो तो क्या करें?

इस अवसर पर विशेष रूप में अर्थ एवं वित्त विषयक एक सेमिनार हुआ। इसका शीर्षक 'पांच खरब की अर्थव्यवस्था में चार्टर्ड अकाउंटेंट्स का योगदान' था। इसमें नेशनल इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलोजी (दुर्गापुर) के मैनेजमेंट विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर अमलान घोष, सिलीगुड़ी नगर निगम के 18 नंबर वार्ड के पार्षद संजय शर्मा, आइसीएआई की सिलीगुड़ी शाखा के पूर्व चेयरमैन व इंडियन चैम्बर ऑफ कॉमर्स (आइसीसी) के उत्तर बंगाल क्षेत्रीय परिषद के वाइस चेयरमैन सीए संजय गोयल, उत्तर बंगाल विश्वविद्यालय के वाणिज्य विभाग के प्रोफेसर डा. देबब्रत मित्रा ने विषय के विविध पहलुओं को रेखांकित किया। इस सत्र का संचालन आइसीएआई की सिलीगुड़ी शाखा के पूर्व चेयरमैन सीए योगेश अग्रवाल ने किया।

इससे पूर्व आईसीएआई की सिलीगुड़ी शाखा के चेयरमैन सीए अभिजीत दत्ता ने स्वागत वक्तव्य रख सबका स्वागत किया। सचिव सीए भावना सिंघल ने धन्यवाद ज्ञापन किया। इस समारोह में आइसीएआइ के पूर्व वरिष्ठ एवं वर्तमान कई सदस्यों ने भाग लिया।

Edited By: Jagran