सिलीगुडी, जेएनएन। सिलीगुडी महकमा के भारत बांग्लादेश सीमांत मानगच्छ में ईंट ले जा रहे लॉरी के पार करते समय ब्रिज टूट गया। घटना शुक्रवार सुबह लगभग 10 बजे घटी है। संयोग रहा की ब्रिज पर ही लॉरी लटकी हुई है। चालक भयभीत होकर उतरने के क्रम में घायल हो गया। गौरतलब है कि इससे पहले मंगलवार को कोलकाता में ब्रिज गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई थी और कई अन्य जख्मी हो गए थे। 

मौके पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी पहुंच कर राहत कार्य में लगे है। राज्य के पर्यटनमंत्री गौतम देव घटनास्थल की और रवाना हुए है। उत्तर बंगाल उन्नयन मंत्री रविंद्र नाथ घोष ने कहा कि ब्रिज टूटने की जांच होगी। पीडब्ल्यू इंजीनियरों ने इस ब्रिज से भारी वाहन के परिचालन पर रोक लगा रखी थी। ऐसे में यह वाहन कैसे गुजर गया। गौतम देव ने कहा कि इंजीनियरों और अधिकारियों के साथ बातचीत कर रिपोर्ट मुख्यमंत्री को दी जायेगी। 

 

जानकारी के अनुसार यह ब्रिज फांसीदेवा से मानगच्छ जाने वाले मार्ग के पिछला नदी पर 2002 में तैयार किया गया था। इसकी लंबाई 30 मीटर है। शुक्रवार की सुबह पंचायत में कार्य के लिए लॉरी डव्लू बी 73 इ 4601 सीमेंट से तैयार ईंट लेकर मानगच्छ जा रहा था कि ब्रिज बीच में भी टूट गया। इसके पहले भी 11 अगस्त को फांसीदेवा  में एशियन हाइवे में बन रहा पुल गिर गया था। संयोग था कि इसमें कोई घायल नहीं हुआ था। इसको लेकर भी राजनीति अब तक हो रही है।

गौरतलब है अभी 4 सितंबर को कोलकाता में भी ऐसा ही एक हादसा हुआ था जब घंटेभर की मूसलाधार बारिश के बाद दक्षिण कोलकाता के माजेरहाट में रेल लाइन के ऊपर बने फ्लाईओवर का हिस्सा व्यस्त समय पर भरभराकर गिर पड़ा था। इस हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई थी। जबकि दर्जनों घायल हो गए थे। एकाएक हुए इस हादसे में पुल से गुजर रही यात्री बस और कई छोटे वाहन क्षतिग्रस्त हो गए थे। हादसे में 20 से अधिक लोग जख्मी भी हुए थे। घटना से लोगों में चीख पुकार मच गई थी। 

Posted By: Babita