>

  • सालबाड़ी-जुरापानी चेकपोस्ट पर पुलिस ने रोकी बसें 
  • आक्रोशित भाजपाईयों ने 31 नंबर राष्ट्रीय राजमार्ग किया जाम
  • समझाने आई पुलिस पर पथराव, 12 पुलिसकर्मी घायल
  • एएसपी की आंख में गंभीर चोट
  • स्थिति नियंत्रित करने पुलिस ने किया लाठीचार्ज 
  • सरकारी बस पर भी किया गया हमला, कई यात्री घायल
  • धुपगुड़ी [संवादसूत्र]। कूचबिहार में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की सभा के मद्देनजर जलपाईगुड़ी जिले का धुपगुड़ी का जुरापरनी इलाका रणक्षेत्र बन गया। विभिन्न इलाकों से कूचबिहार में जाने के लिए रवाना होनेवाली भाजपा के झंडे लगी पांच गाड़िय़ों को रोकने पर भाजपा समर्थकों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। इससे दर्जन भर पुलिस अफसर व कर्मी घायल हुए हैं। इनका इलाज अस्पताल में चल रहा है।

    अस्पताल में भर्ती घायल एएसपी।
    बताया गया कि गाडिय़ों को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया और भाजपा कार्यकर्ताओं व समर्थकों को गाड़ी से उतार दिया। इसके बाद भाजपाईयों को गुस्सा आ गया। आक्रोशित भाजपाई 31 नंबर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पथावरोध कर विरोध प्रदर्शन करने लगे। प्रदर्शनकारी भाजपाईयों को समझाने गई पुलिस पर पथराव किया गया। पत्थरबाजी में 12 पुलिस कर्मी व सिविक वॉलेंटियरों के घायल होने की खबर है। पथराव में जलपाईगुड़ी के अतिरिक्त पुलिस सुपर (ग्रामीण) डेंडुप शेरपा की आंख में चोट आई है। धुपगुड़ी थाना के आइसी सुवीर कर्मकार के हाथ में गंभीर चोट लगी। इनके अलावा एसआइ दिलीप सरकार, परितोष बसाक, सुनील वर्मन, कांस्टेबल तपन दास, सिविक पुलिस अंजीव वर्मन, शुभंकर वर्मन, रफिकुल इस्लाम, उदय घोष घायल हो गए। घायल पुलिस कर्मियों को पहले धुपगुड़ी अस्पताल में भर्ती कराया गया। एएसपी की आंख में चोट लगने के कारण उन्हें सिलीगुड़ी में रेफर किया गया। इसके बाद परिस्थिति नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने भाजपाईयों पर लाठीचार्ज किया। इस दौरान कूचबिहार से सिलीगुड़ी जाने वाली एक सरकारी बस में भी पत्थर फेंके गए। पथराव में कई बस यात्री घायल हो गए। बाद में बानरहाट व नागराकाटा से अतिरिक्त पुलिस बल व जलपाईगुड़ी पुलिस लाइन से रैफ ने आकर स्थिति को नियंत्रित किया। जलपाईगुड़ी पुलिस सुपर अमिताभ माईती घायल पुलिस कर्मियों को देखने धुपगुड़ी अस्पताल पहुंचे। हालांकि उन्होंने इस बारे में मीडिया को कोई बयान नहीं दिया। भाजपा के उत्तर बंगाल कोर कमेटी के संयुक्त संयोजक दीपेन प्रामाणिक ने कहा कि पुलिस ने पार्टी कार्यकर्ताओं को विभिन्न जगहों पर रोका है। जहां पर कार्यकर्ताओं की संख्या कम थी, वहां पुलिस ने मारपीट की। जहां ज्यादा कार्यकर्ता व समर्थक थे, वहां पुलिस रोक नहीं पाई। उन्होंने पुलिस पर हमले की बात को झूठा करार दिया। 

    Posted By: Rajesh Patel