जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : शहर के एक उदीयमान युवा फुटबॉलर जय कुमार महतो की मौत के मामले की जाच के लिए डॉ. देवजानी बसु मल्लिक के नेतृत्व में गठित जाच समिति ने जाच शुरू कर दी है। इस जाच समिति के समक्ष मंगलवार को सिलीगुड़ी फाइट कोरोना नामक संगठन के सदस्यों अनिमेष बोस, विप्लव रॉय व मनोज वर्मा आदि ने अपने बयान दर्ज करवाए। इस बाबत संवाददाताओं से बातचीत में मनोज वर्मा ने कहा कि फुटबॉलर जय कुमार महतो मात्र 25 साल का था। वह चोटिल हो गया था। उसके सीने में तकलीफ थी। उसी का इलाज कराने के लिए उसे नìसग होम ले जाया गया। मगर, नìसग होम ने उसे भर्ती करने से इंकार कर दिया। उसके परिजन लाख मिन्नत करते रहे पर कोई सुनवाई नहीं हुई। अंतत: उसे नॉर्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनबीएमसीएच) ले जाया गया। जहा कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। यदि समय रहते नìसग होम उसे भर्ती कर लेता और उसका इलाज शुरु कर देता तो संभवत: फुटबॉलर आज हम सबके बीच होता। नìसग होम के इस गैर-जिम्मेदार रवैये को कदापि बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। इसके विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई होनी चाहिए। अन्य क्रीड़ा प्रेमियों ने भी इस पूरे मामले की जाच कर नìसग होम के संबंधित दोषियों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्रवाई की माग की है। याद रहे कि इससे पूर्व भी बीती 30 जून को शहर के खेल प्रेमियों ने कंचनजंघा स्टेडियम परिसर में एकत्रित होकर विरोध प्रदर्शन किया था। युवा फुटबॉलर जय महतो की मौत के मामले में चारों ओर से उठी जाच की माग के मद्देनजर शासन प्रशासन की ओर से जाच कमेटी गठित कर इसकी जाच शुरू कर दी गई है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस