जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : बागडोगरा थाना क्षेत्र के हॉसखोवा चाय बागान को शनिवार को बंद कर दिया गया। बुधवार से ही इस बागान के मजदूर आंदोलनरत थे। इतना ही नहीं गुरुवार की सुबह श्रमिकों ने बागान के प्रबंधक और उसके मालिक के पुत्र का घेराव भी किया था। शुक्रवार की देररात प्रबंधक ने चाय बागान को बंद किए जाने की लिखित नोटिस सूचना बोर्ड पर चस्पा कर दी। सूत्रों के अनुसार बागान को बंद किए जाने के पीछे मजदूरों के आंदोलन और असुरक्षा को प्रमुख कारण बताया जा रहा है। बागान बंद होने की जानकारी मिलते ही सभी ट्रेड यूनियनों के प्रतिनिधि शनिवार को संयुक्त श्रमायुक्त कार्यालय पहुंच कर बागान को खोले जाने की मांग करने लगे। बागान के बंद हो जाने से लगभग दो हजार श्रमिकों के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है। इंटक के नेता आलोक चक्रवर्ती और सीटू के नेता गौतम घोष ने बताया कि मजदूरों को समझौते की आधी जानकारी होने के कारण यह समस्या पैदा हुई। मजदूर 24 किलोग्राम पत्ती तोड़ने पर राजी हैं। होली के पूर्व अगर चाय बागान नहीं खुला तो मजदूरों की होली का रंग फीका पड़ जाएगा।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran