संवाद सूत्र, बालुरघाट : बालुरघाट के रघुनाथपुर के 512 नंबर राष्ट्रीय राजमार्ग पर दुर्लभ प्रजाति का लेपर्ड कैट सड़क दुर्घटना का शिकार हो गया। इस प्राणी को पश्चिम बंगाल में जातीय पशु के रूप में स्वीकृति मिली है। ऐसे में बालुरघाट में लेपर्ड कैट कैसे आया? यह जांच का विषय बनी हुई। लेपर्ड कैट को बाघ रोल भी कहते है। स्थानीय लोगों ने बताया कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर यह लेपर्ड किसी वाहन के चपेट में आ गया होगा। हमलोगों ने लेपर्ड के शव को देखकर वन विभाग व पुलिस को सूचित किया। गौरतलब है कि लेपर्ड कैट बड़े चाव से मछली खाते है। लेकिन कभी-कभी कुत्ता, बकरी आदि का भी शिकार करते है। इसकी ऊंचाई 38से 40 सेंटीमीटर तथा इसका वजन पांच से 15 किलो तक होता है। इसे इंटरनेशनल यूनियन ऑफ कंजरवेशन ऑफ नेचर एवं नेचरल रिसोर्स ने इस प्राणी को रेड लिस्ट के अंतर्गत लिया है। यानी यह दुर्लभ प्रजाति का प्राणी है।

पर्यावरण प्रेमी तूहीन शुभ्र मंडल ने बताया कि भोजन के लिए शायद लेपर्ड कैट रास्ता पार कर रहा होगा।

कैप्शन : लेपर्ड कैट का शव

Posted By: Jagran