-प्रोफेसर तापस कुमार कुंडू को मिला डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधि

-186 स्नातक, 81 स्नातकोत्तर व 26 शोधार्थी को पीएचडी की उपाधि, मैडल व प्रमाण-पत्र मिला

जेएनएन, कूचबिहार/दिनहाटा: प्राकृतिक आपदा, विषम परिस्थिति के बावजूद उत्तर बंगाल का कृषि उत्पादन बेहतर है। कृषि के क्षेत्र में उत्तर बंगाल काफी आगे बढ़ रहा है। कृषकों को तकनीकी रूप से दक्ष बनाने तथा उन्हें अपने उत्पाद का सही मूल्य दिलाने में उत्तर बंग कृषि विश्वविद्यालय का योगदान काफी अहम है। यह कहना है बंगाल के राज्यपाल व उत्तर बंग कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य केशरी नाथ त्रिपाठी का। वें गुरूवार को कूचबिहार के पुंडीबाड़ी में स्थित उत्तर बंग कृषि विश्वविद्यालय में छठवें दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। राज्यपाल ने दीक्षांत समारोह में 186 स्नातक, 81 स्नातकोत्तर व 26 शोधार्थी को पीएचडी की उपाधि, मैडल व प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया। वहीं प्रोफेसर तापस कुमार कुंडू को डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधि दी गयी। छात्रों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा- ' जो मेहनत करेंगे, उन्हें उनका फल देर-सबेर जरूर मिलेगा। छात्र असफलताओं से विचलित न हो। देश को मेधा व उत्साही युवा की जरूरत है। यह विश्वविद्यालय शिक्षकों के अभाव में भी बेहतर प्रदर्शन कर रही है। यहां अधिक शोध हो रहे है।' इस अवसर पर कृषि मंत्री अशीष बनर्जी, उत्तर बंगाल के विकास मंत्री रवींद्रनाथ घोष, डिप्यूटी डायरेक्टर जेरनल नरेंद्र सिंह राठौड, उत्तर बंग कृषि विश्वविद्यालय के उप कुलपति प्रो. चिरंतन चट्टोपाध्याय, समाजसेवी अब्दुल जलील अहमद आदि उपस्थित थें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस