निगरानी

- आन लाइन टेंडर प्रक्रिया शुरू होने से व्यापारी नाखुश संवादसूत्र, चेंगड़ाबांधा : कूचबिहार जिले में भारत-बांग्लादेश के चेंगड़ाबांधा सीमा पर पिछले तीन दिनों तक काम बंद रहने के बाद मंगलवार से विदेशी व्यापार की टेंडर प्रक्रिया शुरू हुई। केंद्रीय वाणिज्य मंत्रायल की ओर से 'ई संचित पद्धति' के माध्यम से इस दिन प्रथम टेंडर प्रक्रिया शुरू हुई। वही इसे लेकर व्यवसायियों का कहना है कि वर्तमान में इसे लेकर कभी भी समस्या हो सकती है।

गौरतलब है कि वर्तमान में इस सीमा से विदेशी व्यापार की सभी प्रक्रिया आनलाइन की जा रही है। इलेक्ट्रोनिक डेटो इंटरचेंज पद्धति के माध्यम से इस प्रक्रिया को किया जा रहा है। इस पद्धति में अधिकांश कागजात आन लाइन अपलोड करना पड़ता है। उसके बाद ही आनलाइन प्रक्रिया होती है। हालांकि इसे लेकर समस्या हो रही है। व्यवसायियों का कहना है कि इस दिन विदेशी व्यापार को लेकर आन लाइन प्रक्रिया शुरू हुई है। लेकिन इसे लेकर व्यवसायी काफी उत्साहित नहीं है। व्यवसायियों का आरोप है कि बीच बीच में इंटरनेट सेवा ठप हो जाती है। इसके अलावा यहां पर बुनियादी ढांचा की कमी है। इन सब समस्याओं को दूर किए बिना ही आन लाइन प्रक्रिया शुरू की गई है। उनलोगों ने इस समस्या के बारे में शुल्क विभाग के अधिकारी को अवगत कराया गया है।

चेंगड़ाबांधा एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के सचिव विमल कुमार घोष व अध्यक्ष मुलचंद बुच्चा ने कहा कि यह पद्धति चालू होने के बाद से पिछले कई दिनों तक विदेशी वाणिज्य की समस्त टेंडर प्रक्रिया बंद थी। इस दिन नई पद्धति से काम को करने का प्रयास किया जा रहा है।

वही व्यवसायी संगठन का मानना है कि चेंगड़ाबांधा सीमा के अलावा राज्य के अन्य भारत-बंगलादेशी सीमा पर टेंडर प्रक्रिया करने में परेशानी हो रही है। वर्तमान में चेंगड़ाबांधा बंदरगाह से भारत से कच्चे माल का निर्यात कम हो रहा है। जिसमें वाणिज्य अनूमति के लिए कुछ दिनों का समय लग रहा है।

इस प्रसंग में शुल्क विभाग के चेंड़ाबांधा शाखा के अधीक्षक कपिल बाइन ने कहा कि आन लाइन की प्रकिया शुरू हो गई है। कैप्शन : चेंगड़ाबांधा सीमा पर वाहन की जांच करते बीएसएफ जवान

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस