- काफी देर तक पंचायत कार्यालय में फंसे रहे प्रधान व अन्य कर्मचारी संवादसूत्र, चेंगड़ाबांधा : काम करने के बावजूद श्रमिकों को उनकी मजदूरी नहीं मिल रही है। बकाया श्रमिक देने को लेकर प्रबंधन से कई बार कहने के बावजूद कोई फायदा नहीं हुआ। आखिरकार इस शिकायत के साथ स्थानीय लोगों ने ग्राम पंचायत कार्यालय में ताला जड़कर विरोध प्रदर्शन किया। जिससे कार्यालय के अंदर काफी देर तक प्रधान के साथ अन्य कर्मचारी फंसे रहे। मंगलवार को यह घटना मेखलीगंज ब्लाक के भोटबाड़ी ग्राम पंचायत इलाके में घटी। घटना की खबर मिलते ही मेखलीगंज थाना की पुलिस मौके पर पहुंचकर परिस्थिति को नियंत्रित किया। पुलिस के पहले के बाद कार्यालय के ताला को खोल दिया गया। इस विषय को लेकर ग्राम पंचायत कार्यालय में प्रधान मृत्युंजय सिंह सरकार के नेतृत्व में सभी को लेकर एक बैठक का आयोजन किया गया। जहां पर बकाया पैसे देने की मांग पर चर्चा की गई।

मोहम्मद जहिर, लाल बाबू बर्मन, अब्दुल कादिर, गीता विश्वास ने कहा कि मनरेगा योजना के तहत उनलोगों ने काम किया है। उनका पिछले साल का पारिश्रमिक बकाया है। इस साल भी पारिश्रमिक नहीं मिल रहा है। बकाया पैसे देने को लेकर कई बार ग्राम पंचायत कार्यालय में अवगत कराया गया, लेकिन कोई लाभ नहीं मिला। इसलिए हमलोग आंदोलन करने के लिए बाध्य हुए है। इस दिन आंदोलन की सूचना मिलते ही तृणमूल श्रमिक कांग्रेस के मेखलीगंज महकमा कमेटी के अध्यक्ष साहिन अली सरकार घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि श्रमिकों का बकाया पिछले काफी समय पड़ा हुआ है। उनलोगों को पंचायत कार्यालय से पैसे नहीं मिल रहे है। मांगें पूरी नहीं होने तक आंदोलन चलता रहेगा।

ग्राम पंचायत के प्रधान मृत्युंजय सिंह सरकार ने कहा कि ग्राम पंचायत की ओर से इसको लेकर कोई कमी नहीं रखी गई है। आधार लींक के कारण कुछ तकनीकि समस्या हो रही है। जिसके कारण कुछ श्रमिकों का पारिश्रमिक रुका हुआ है। इस बारे में उच्च प्रबंधन को अवगत कराया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस