जागरण संवाददाता, दुर्गापुर : दुर्गापुर शहर के विधाननगर स्थित विवेकानंद अस्पताल में इलाज के दौरान एक मरीज की मौत हो गई। परिवार वालों ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए अस्पताल में जमकर हंगामा किया। पुलिस ने पहुंचकर स्थिति को नियंत्रित किया। प्रबंधन की ओर से मामले की जांच का आश्वासन दिया गया।

दुर्गापुर शहर के आमराई निवासी 41 वर्षीय शेख रमजान अली को 26 जुलाई को एक आपरेशन के लिए विवेकानंद अस्पताल में भर्ती किया गया था। जहां आपरेशन के बाद मरीज की हालत और खराब होते गई। बुधवार की रात अस्पताल प्रबंधन की ओर से परिवार वालों को सूचना दी गई कि मरीज की हालत गंभीर है। रात में जब परिवार वाले अस्पताल पहुंचे तो कहा गया कि मरीज अब ठीक है। जिसके बाद परिवार वाले घर चले गए। गुरुवार की सुबह जानकारी दी गई कि मरीज की मौत हो गई। यह सुनकर परिजन व आसपास के लोग अस्पताल में पहुंचे एवं हंगामा शुरु कर दिया। लोगों के हंगामे की सूचना मिलने पर न्यूटाउनशिप थाना की पुलिस भी पहुंची, जहां परिवार वालों ने मामले की जांच की मांग की। किसकी लापरवाही से मरीज की मौत हुई, इसकी जांच करनी होगी। पुलिस ने परिवार वालों एवं अस्पताल प्रबंधन से बातचीत कर स्थिति को नियंत्रित किया। मरीज के रिश्तेदार शेख अजिमुद्दीन ने कहा कि बुधवार की रात 12 बजे फोन पर मरीज की हालत गंभीर बताया गया। यह सुनकर हमलोग अस्पताल पहुंचे। जब अस्पताल पहुंचे तो कहा गया कि मरीज ठीक है, उसके बाद सुबह छह बजे फोन पर सूचना मिली कि मरीज की मौत हो गई है। अस्पताल के चिकित्सकों की लापरवाही के कारण ही मरीज की मौत हुई है। इसकी जांच होनी चाहिए।

मरीज को राज्य सरकार की चिकित्सा योजना स्वास्थ्य साथी कार्ड के माध्यम से भर्ती किया गया था, इस कारण आपरेशन में देरी भी की गई। अस्पताल अधीक्षक दुर्गादास राय ने लापरवाही के आरोप को गलत बताया एवं कहा कि किसी की मौत दुखजनक है। मरीज को स्वस्थ कर परिवार वालों के हाथों में सौंप देना हमलोगों को एकमात्र उद्देश्य होता है। इलाज में हर संभव कोशिश की जाती है। आपरेशन में देरी के आरोप को भी उन्होंने गलत बताया।

Edited By: Jagran