आसनसोल : कुल्टी इलाके के भाजपा नेता पर रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का आरोप लगा है। यह मामला सामने आने के बाद इसे लेकर राजनीति भी तेज हो गई है। शिकायतकर्ता भी भाजपा समर्थक है। इसे लेकर नियामतपुर पुलिस फांड़ी में शिकायत दर्ज करायी गई है। इसके बाद पुलिस ने मामले की छानबीन भी शुरू कर दी है। आरोपित भाजपा नेता की विभिन्न केंद्रीय मंत्रियों तथा भाजपा नेताओं के साथ तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। वहीं भाजपा इसे टीएमसी की साजिश बता रही है। इधर टीएमसी का कहना है कि केंद्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद जो लोग ऐसे अनैतिक कार्यों से जुड़े हैं, उन्हें नेता बनाया जा रहा है। पुलिस मामले की जांच कर उचित कार्रवाई करें।

पुलिस सूत्रों के अनुसार नियामतपुर के विष्णुप्रिया कॉलोनी निवासी भाजपा समर्थक राजीव तांती ने बीते 4 अक्टूबर को भाजपा नेता पर नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का आरोप लगाते हुए लिखित शिकायत दर्ज कराई। राजीव का कहना है कि 5 मार्च 2015 को रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर नियामतपुर के भाजपा नेता अमित सिंह ने उससे 4 लाख रुपये लिये थे। लेकिन चार साल तक उसे कोई नौकरी नहीं मिली, बल्कि रेलवे का फर्जी नियुक्ति पत्र थमा दिया गया था। जिसके बाद उसने अपने रुपये वापस मांगे तो आरोपित ने कहा कि उसे कुछ समय दिया जाये। 3 अक्टूबर को वह अमित से रुपये मांगने गया। तो उसने कहा कि वह रुपये नहीं लौटायेगा। उसका कहना है कि इस तरह की घटना केवल उसके साथ ही नहीं बल्कि और भी कई लोगों के साथ हुई है। गौरतलब है कि अमित कुल्टी अंचल में भाजपा का सक्रिय नेता है। बीते नगरनिगम चुनाव में उसकी पत्नी भाजपा के टिकट पर चुनाव भी लड़ी थी।

......

आरोप झूठे : अमित

आसनसोल: आरोपित भाजपा नेता अमित सिंह का कहना है कि यह आरोप झूठा है। मेरा ट्रांसपोर्टिंग का व्यवसाय है। टीएमसी ने मेरे खिलाफ फर्जी शिकायत दर्ज कराई है। राजीव ने खुद आकर कहा है कि शिकायत करना सही नहीं हुआ, इसे वापस ले लेगा।

......

टीएमसी की साजिश : जिलाध्यक्ष

आसनसोल: भाजपा जिलाध्यक्ष लखन घुरई ने कहा कि यह टीएमसी की साजिश है। अगर पार्टी के किसी व्यक्ति ने इस तरह का कार्य किया होगा, तो इसकी जांच की जायेगी, साबित होने पर कार्रवाई होगी।

.....

शिकायतकर्ता- आरोपित दोनों भाजपाई, बीच में टीएमसी कहां से आई : महेश्वर

आसनसोल: कुल्टी टीएमसी ब्लाक अध्यक्ष महेश्वर मुखर्जी ने कहा इस मामले में शिकायतकर्ता एवं आरोपित दोनों ही भाजपा से जुड़े हैं। इसमें टीएमसी कहां से आ गई? वह लोग सत्ता में आनेवाले नहीं है, इसलिए यह सब कर रहे हैं। पहले पुलिस अमित के खिलाफ शिकायत नहीं ले रही थी, लेकिन बाद में शिकायत लेने को बाध्य हुई।

......

कार्रवाई न होने से पुलिस की भूमिका पर सवाल

आसनसोल: रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी की शिकायत दर्ज होने के सप्ताहभर बीतने के बाद भी आरोपित के खिलाफ पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किये जाने से सवाल उठ रहे हैं। कुछ लोग इसे भाजपा के प्रति कुल्टी पुलिस का सॉफ्ट कॉर्नर बता रहे हैं। राज्य में बदले राजनीतिक परिदृश्य में पुलिस अभी से संतुलन बनाने में जुटी है। क्योंकि टीएमसी ब्लाक अध्यक्ष महेश्वर मुखर्जी भी कह चुके हैं कि पुलिस पहले शिकायत नहीं ले रही थी, लेकिन बाद में बाध्य होकर शिकायत ली।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप