जागरण संवाददाता,आसनसोल :

कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) की ओर से जीएसटी नियमों में हाल ही में किये गए कुछ संशोधन के विरोध में शुक्रवार को भारत व्यापार बंद बुलाया गया है। व्यापार बंद को लेकर कैट के बंगाल चैप्टर अध्यक्ष सुभाष अग्रवाल का कहना है कि दिल्ली सहित देश भर के 40 हजार से अधिक व्यापारिक संगठनों से जुड़े 8 करोड़ से अधिक व्यापारी अपना कारोबार बंद रखेंगे। ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन (ऐटवा) के आह्वान पर देश भर में सभी ट्रांसपोर्ट कंपनियां बंद रहेंगी और ट्रांसपोर्ट का चक्का जाम रहेगा। इसके अलावा लघु उद्योग, हॉकर्स,महिला उद्यमी, स्वयं उद्यमियों एवं व्यापार से जुड़े अन्य क्षेत्रों के राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय संगठनों ने भी व्यापार बंद को अपना समर्थन दिया है। देश के सभी राज्यों में चार्टर्ड अकाउंटेंट एवं टैक्स अधिवक्ता के राज्य स्तरीय संगठनों ने भी बंद को अपना समर्थन दिया है। सुभाष अग्रवाल ने कहा कि कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया कि शुक्रवार को देश भर में सभी राज्यों के लगभग 1500 छोटे -बड़े संगठनों की ओर से विरोध धरना दिया जाएगा। देश भर में व्यापारी तथा ट्रांसपोर्टर्स एवं अन्य लोग जीएसटी पोर्टल पर लॉग इन नहीं कर अपना विरोध प्रदर्शित करेंगे। लोगों को भारत व्यापार बंद से कोई असुविधा न हो इसको देखते हुए कैट ने बंद से आवश्यक सेवाओं,दवाई की दुकानों को, दूध, सब्जी आदि को बंद में शामिल नहीं किया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप