पैर में हवाई चप्पल और कंधे पर कपड़े का झोला टांगकर चलने वाले 28 वर्षीय शरद ने न केवल समाज को भिक्षावृत्ति से मुक्त करने का संकल्प लिया है, बल्कि उन्हें रोजगार से जोड़कर उनकी माली हालत सुधारने का काम भी किया है। शरद बताते हैं कि जब वह हरदोई से पढ़ाई के लिए 2007 में पहली बार राजधानी आए तो चारबाग के नत्था होटल के डिवाइडर पर मैले कुचैले भिखारियों को देखकर उनका दिल पसीज गया। क्रिश्चियन कॉलेज में पढ़ाई के दौरान उन्हें जब समय मिलता तो हनुमान सेतु, शनि मंदिर व मनकामेश्वर मंदिर में जाकर भिखारियों को भीख देने वालों पर नजर रखते थे। आर्थिक सुदृढ़ लोगों को पैसे के बजाय उन्हें काम देने की वकालत करने वाले शरद को कई बार अपमान का भी सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने हार नही मानी। बीएससी के बाद प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने लगे और उन्हीं भिखारियों को आत्मनिर्भर बनाने की जुगत में जुटे रहे। देखिए उनकी कहानी उन्ही की ज़ुबानी...