भारत के उत्तराखंड राज्य को देवभूमि पुकारा जाता है और हरिद्वार है इस देवभूमि का प्रवेश द्वार। हरिद्वार का मुख्य आकर्षण गंगा आरती है। यहां मंगला आरती सूर्योदय के समय और सांध्यकालीन श्रृंगार आरती सूर्यास्त के समय होती है। हरिद्वार में हर छह साल बाद अर्ध कुंभ और हर बारह वर्ष बाद कुंभ मेला होता है। हर की पौड़ी, चंडी देवी मंदिर, मनसा देवी मंदिर, सप्तऋषि आश्रम, माया देवी मंदिर और दक्ष महादेव मंदिर यहां के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है। चिड़ियापुर क्षेत्र में गंगा नदी के बायें तट पर फैला है यह रिज़र्व। यहां बारहसिंघों के साथ ही हिरनों के झुंड को कुलाचें भरते देखना अपने आप में आनंददायक है। प्रकृतिप्रेमियों के लिए हरिद्वार स्वर्ग जैसा सुन्दर है। हरिद्वार भारतीय संस्कृति और सभ्यता की बहुरूपदर्शिका प्रस्तुत करता है। आज, यह अपने धार्मिक महत्त्व के अतिरिक्त भी, राज्य के एक प्रमुख औद्योगिक केन्द्र के रूप में, तेज़ी से विकसित हो रहा है।