मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पर 16 नबंवर 2013 का दिन इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए दर्ज है। दुनिया भर के क्रिकेट फैन्स ने इस दिन एक युग को खत्म होते देखा। 24 साल के लंबे अंतरराष्ट्रीय करियर के बाद सचिन तेंदुलकर ने मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में क्रिकेट को अलविदा कहा था। आज हम सचिन की फेयरवेल स्पीच की बात करेंगे जिसने पूरी दुनिया की आंखें नम कर दी थी। लेकिन उससे पहले आपको बता दें कि क्रिकेट इतिहास में 15 नवंबर भी  बेहद खास है, क्योंकि यही वो दिन है जब पहली बार इस खेल के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना डेब्यू किया था। सचिन ने इसी दिन 1989 को (ठीक 29साल पहले) 16 साल 205 दिन की उम्र में अपना पहला टेस्ट मैच खेला था। सचिन ने अपना पहला टेस्ट कराची के नेशनल स्टेडियम में पाकिस्तान के खिलाफ खेला था।