अंपायर मैच में अहम भूमिका निभाता है इसलिए  अंपायरों को  भी मैच के लिए भारी फीस मिलती है । आईपीएल में अंपायरों की दो श्रेणी होती है  जिसमें एलीट अंपायर और एंट्री लेवल अंपायर शामिल है। एलिट अंपायरों को पूरे सीजन में करीब साढ़े तीन करोड़ रुपये मिल सकते हैं, जबकि एंट्री लेवल के अंपायर 12 लाख रुपये तक कमा पाते हैं। अंपायर बनने के लिए क्रिकेट के 42 नियमों को जानने के अलावा  अंपायर का व्यवहार भी मायने रखता है। अंपायर बनने के लिए होने  वाली  परीक्षाओं  को  पास  करने  के  बाद   ही कोई  बीसीसीआई के द्वारा आयोजित की जाने वाली अंपायरिंग परीक्षा में बैठने के लिए योग्य माना जाता है। दूसरे स्तर की परीक्षा पास करने  के  बाद  उसे  बीसीसीआई पैनल के लिए चुन लिया जाता है । कुछ दिनों तक राष्ट्रीय मैचों में अंपायरिंग करने के बाद व्यक्ति को अंतरराष्ट्रीय मैचों में अंपायरिंग करने का मौका दिया जाता है ।