क्रिकेट की दीवानगी का आलम ये है कि इसे भारत में किसी धर्म से कम नहीं समझा जाता और यहां खिलाड़ियों को फैन्स सिर-आंखों पर बैठाते हैं। क्रिकेट मैच देखने के लिए दर्शक खेल शुरू होने से पहले ही बैठ जाते हैं और प्रेसेंटेशन तक रुके रहते हैं और पूरे मैच का मज़ा लेते हुए फैन्स अंदाजा लगाते रहते हैं कि कौन जीतेगा, कौन सेंचुरी लगाएगा, कौन छक्का लगाएगा और कौन विकेट लेगा। अक्सर ऐसा भी देखा जाता है कि क्रिकेट फैन्स मैच के ख़त्म होते ही इस बात का भी अनुमान लगा लेते हैं कि कौन सा खिलाड़ी मैन ऑफ द मैच बनने का हकदार है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि 'मैन ऑफ द मैच' देने का फैसला कौन लेता है? इस सवाल का जवाब शायद 90% फैन्स नहीं जानते होंगे। इसलिए हम आपको आज बता रहे हैं कि आखिर मैन ऑफ द मैच कौन तय करता है।