रविंद्र जडेजा जिसे रात में चलने की आदत थी। जिसकी नींद में भी क्रिकेट ही था, सोते हुए भी जो फील्डिंग लगाता था। जिसके पिता सिक्‍योरिटी गार्ड थे, मां नर्स थी। आखिर कैसे जामनगर का एक सामान्‍य लड़का टीम इंडिया तक पहुंचा। रविंद्र जडेजा दो बार अंडर-19विश्‍वकप में टीम इंडिया के लिए खेल चुके हैं। रविंद्र जडेजा ने रणजी के 2008-09 सीजन में 739 रन और 42 विकेट लिए थे। जडेजा ने जो मुकाम हासिल किया है, उसके पीछे उनके परिवार की कड़ी तपस्‍या है। कैसे जामनगर के नवगाम खेड में 6 दिसम्‍बर 1988 को जन्‍मे रविंद्र जडेजा, सर रविंद्र जडेजा बन गये। कृष्‍ण कुमार ने  उनके जिंदगी के कई पहलूओं पर नजर डाली है। देखे यह वीडियो।