आज नवरात्र का चौथा दिन है। नवरात्र पूजन के चौथे दिन देवी कूष्माण्डा की उपासना की जाती है। मां दुर्गा के इस चौथे स्वरूप को सृष्टि की आदि स्वरूपा और आदि शक्ति भी कहा जाता है। देवी मां आठ भुजाएं भी हैं जिसकी वजह से इन्हें अष्टभुजा भी कहा गया। माना जाता है कि देवी कूष्माण्डा की पूजा में सफलता प्राप्त करने से भक्तों के सारे दुख दूर हो जाते हैं। माना जाता है कि सूर्यमंडल के अंदर के लोक में यें निवास करती हैं, क्योकि यहां पर रहने की शक्ति केवल इन्हीं के पास हैं। यह भी कहा जाता है कि इनकी शरीर की चमक भी सूर्य की तरह ही है और कोई भी देवी देवता इनकी बराबरी नहीं कर सकता।