सनातन धर्म में गायत्री मंत्र को समस्त मंत्रों में सर्वोत्तम मंत्र कहा गया है। इसके जाप मात्र से ही व्यक्ति के सभी काम बनने लगते हैं और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। 24 अक्षरों से मिलकर बने गायत्री मंत्र में 24 देवताओं की शक्तियां समाहित है, जो मंत्र के उच्चारण और सुनने मात्र से ही जागृत हो जाती है। यही देवशक्तियां भक्त की समस्त इच्छाओं को पूर्ण कर मोक्ष के द्वार तक पहुंचाती है।